आसान नहीं था सपना का सफर, की थी जान लेने की कोशिश

0
307

हरियाणा की मशहूर डांसर और बिग बॉस की प्रतियोगी रही सपना चौधरी ने शनिवार शाम को कांग्रेस पार्टी का हाथ थाम लिया है। सपना चौधरी ने कांग्रेस कमेटी के प्रदेश संगठन मंत्री नरेंद्र राठी की मौजूदगी मे कांग्रेस पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। जिसके बाद अब चर्चा सपना के चुनाव लड़ने की शुरू हो गई है। सपना चौधरी का आज सफलता की बुलंदियां छू रही है लेकिन एक वक्त ऐसा भी था जब सपना ने जिंदगी से परेशान होकर इसे खत्म करने की कोशिश की थी।

आपको बता दे कि सपना चौधरी का एक कार्यक्रम काफी विवादों में आया था। 17 फरवरी 2016 को गुड़गांव के चक्करपुर में सपना ने रागनी ‘बिगड़ग्या’ गाई थी। इस रागनी को गाते मे सपना ने कई ऐसे शब्दों का इस्तेमाल किया था जिसमें वह दलितों पर सवाल खड़ी करती हुई नजर आ रही है। जिससे गुस्साएं लोगों ने कहा कि गीत के जरीए सपना उनका अपमान कर रही है।

जिसके बाद सपना चौधरी के खिलाफ हिसार में डोगराम मोहल्ला की चौकी पर बहुजन आजाद मोर्चा ने लोगों ने शिकायत दर्ज करवाई। इस दौरान मोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष संजय चौहान ने कहा कि सपना ने अपने गाने से उनका अपमान किया है। इतना ही नहीं एक हिसार में शिकायत के बाद सपना के खिलाफ गुड़गांव मे सेक्टर-29 के थाने में एफआईआर दर्ज करवाई गई। गुड़गांव में सपना के खिलाफ सामाजिक संगठन निगाहें के राष्ट्रीय अध्यक्ष नवाब सतपाल तंवर ने शिकायत की थी। जिसके बाद सपना चौधरी और कंपनी के खिलाफ एससी-एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया। इस दौरान मामले पर एसआईटी तक बिठाई गई थी।

वही मामला बढ़ता देख हरियाणवी म्यूजिक कम्पनी मोर म्यूजिक ने भी सपना से सारे नाते तोड़ने के ऐलान किया था। इतना ही नहीं कंपनी ने ये तक कहा था कि अगर सपना कही भी कंपनी के गाने पर परफोर्मेंस करेगी। तो कंपनी सपना पर केस करेगी।
इंडस्ट्री मे सपना के नाम पर विवाद होने के साथ ही सोशल मीडिया पर भी सपना के खिलाफ लोग बोलते हुए नजर आ रहे थे। जिससे तंग आकर सपना चौधरी ने आत्महत्या करने की कोशिश की। हालांकि सपन की जान तो बच गई, लेकिन इस दौरान सपना कई दिनों तक आईसीयू में रही। जिसके बाद ठीक होकर सपना मीडिया के सामने आई।

इन सब घटना के बाद सपना ने मामले को शांत करने के लिए गुड़गांव की अदालत मे जमानत याचिका दायर की। जो खारिज हो गई। इसके बाद सपन पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट में जमानत अर्जी लेकर पहुंची। जिसे भी कई बार खारिज कर दिया गया। इसके बाद जून 2017 में रागिनी विवाद में हुई एफआईआर रद्द करने के लिए सपना चौधरी ने हाईकोर्ट में अपील की। मामला अभी विचाराधीन है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here