दिल्ली नहीं कहीं और हो सकता है प्रधानमंत्री का शपथ समारोह, जानें कौन-सी है जगह

0
176
PM CEREMONY
Loading...

2019 के लोकसभा चुनाव की जंग जारी है। सबके मन में सवाल है कौन होगा 2019 का किंग? किसके सर सजेगा ताज ? कौन होगा प्रधानमंत्री ? हर पार्टी ने जीत के लिए अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। लेकिन इन दिनों प्रधानमंत्री कार्यालय के अधिकारी चुनाव के बाद की तैयारियों में व्यस्त है। माना जा रहा है कि 2019 में प्रधानमंत्री का शपथ समारोह दिल्ली नहीं बल्कि कहीं और हो सकता है। जिसके चलते सभी अधिकारी व्यस्त चल रहे है।

सूत्रों के मुताबिक, अगर प्रधानमंत्री शपथ समारोह दिल्ली में नहीं हुआ, तो फिर हैदराबाद या फिर वाराणसी में होगा। जिसके पीछे अहम वजह है। दरअसल 2014 में जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बने थे। तो वह चाहते थे कि उनका शपथ समारोह दिल्ली नहीं बल्कि वाराणसी हो। ताकि जनता तक ये संदेश पहुंचाया जा सके। कि केंद्र की सरकार सच में संघीय है लेकिन उस वक्त ऐसा नहीं हो पाया। इसलिए वाराणसी का नाम लिस्ट में है।

वही हैदराबाद के पीछे भी अहम वजह है। हैदराबाद राष्ट्रपति का दूसरा घर माना जाता है। राष्ट्रपति हमेशा छुट्टियों के लिए हैदराबाद ही जाया करते है। जिसके चलते अधिकारियों के मन में हैदराबाद का नाम है। हालांकि माना जा रहा है कि इस बात का निर्णय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पीएमओ के अधिकारियों छोड़ दिया है कि समारोह कहा होगा। जिसके चलते अधिकारी इस चीज की जांच में लगे है कि क्या दिल्ली के बाहर प्रधानमंत्री का शपथ समारोह हो सकता है। दिल्ली के बाहर इस तरह के कार्यक्रम की मनाही तो नहीं है। और अगर है तो यह रिस्ट्रिक्शन संवैधानिक है या नहीं।

हालांकि अगर प्रधानमंत्री 2019 में फिर से नरेंद्र मोदी बनते है तो वह 70 साल बाद ये इतिहास भी रचने का काम कर सकते है। 1998 में वाजपेयी राष्ट्रपति भवन के फ्रो कोर्ट में शपथ लेने वाले पहले प्रधानमंत्री बने थे। और 2014 में जब यहां पीएम मोदी का शपथ समारोह आयोजित किया गया था तो सभी मेहमान वहा की गर्मी से त्रस्त नज़र आए थे।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here