होलिका दहन पर राशि के मुताबिक चुनें कपड़ों का रंग..घर में बरसेगी सुख समृद्धि

0
358

होली आने को है ऐसे में सभी ने अपने प्लान तैयार कर लिए है। सब रंगों का त्यौहार खेलने के लिए एक हफ्ते पहले ही तैयारियां करना शुरू कर देते है। बुधवार को होलिका दहन है। और गुरूवार को रंग खेला जाएगा। ऐसे में होलिका दिन के आप अगर अपनी राशि के मुताबिक कपड़े धारण करेंगे तो ये आपके लिए शुभ साबित होगा। प्रत्येक राशि का एक शुभ रंग होता है। आइए आपको बताते है कि आपको होलिका दहन के दिने कौन से कपड़े पहनने चाहिए।

ज्योतिषाचार्य बंशीधर नौटियाल ने बताया कि होली में कपड़ों के रंग भी महत्व रखते हैं। हर राशि का अपना एक शुभ रंग माना जाता है। ज्योतिषि कहते है कि अगर आप इन रंगों को धारण करेंगे तो अपके जीवन में तरक्की आएगी। उलझनें समाप्त होंगी और परस्पर प्रेम बढ़ेगा। इसलिए सुख-समृद्धि के इस पर्व पर लोग शुभ रंग के कपड़े पहनना बेहतर समझते हैं।

राशि के अनुसार धारण करें कपड़े।

मेष: लाल और पीला

वृष: सफेद, नीला

मिथुन: हरा और सफेद

कर्क: पीला, हरा और सफेद

सिंह: गुलाबी, हरा और पीला

कन्या: हरा, पीला और सफेद

तुला: सफेद, हरा और नीला

वृश्चिक: लाल, पीला, नीला

धनु: पीला, हरा, लाल

मकर: सफेद, लाल, नीला

कुंभ: सफेद, लाल, नीला

मीन: पीला, सफेद, हरा

कैसे करें पूजा

सबसे पहले होलिका पूजन के लिए पूर्व या उत्तर की ओर अपना मुख करके बैठें।  अब अपने आस-पास पानी की बूंदे छिड़कें। गोबर से होलिका और प्रहलाद की प्रतिमाएं बनाएं। थाली में रोली, कच्चा सूत, चावल, फूल, साबुत हल्दी, बताशे, फल और एक लोटा पानी रखें। नरसिंह भगवान का स्मरण करते हुए प्रतिमाओं पर रोली, मौली, चावल, बताशे और फूल अर्पित करें। अब सभी सामान लेकर होलिका दहन वाले स्थान पर ले जाएं। अग्नि जलाने से पहले अपना नाम, पिता का नाम और गोत्र का नाम लेते हुए अक्षत (चावल) में उठाएं और भगवान गणेश का स्मरण कर होलिका पर अक्षत अर्पण करें। इसके बाद प्रहलाद का नाम लें और फूल चढ़ाएं। भगवान नरसिंह का नाम लेते हुए पांचों अनाज चढ़ाएं। अब दोनों हाथ जोड़कर अक्षत, हल्दी और फूल चढ़ाएं। कच्चा सूत हाथ में लेकर होलिका पर लपेटते हुए परिक्रमा करें। गोबर के बिड़कले को होली में डालें। आखिर में गुलाल डालकर लोटे से जल चढ़ाएं।

होलिका दहन का मुहूर्त

शुभ मुहूर्त शुरू – रात 08:58 से

शुभ मुहूर्त खत्म – 11:34 तक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here