भगत सिंह की फांसी के बाद जवाहरलाल नेहरू ने ये बातें कही थीं…आप भी जानिए

0
671

आज शहीद दिवस है बताने जा रहे है भगत सिंह की फांसी के बाद भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने क्या कहा। दरअसल जवाहर लाल नेहरू को बाद में पता चला कि भगत सिंह को फांसी दे दी गई और वो शहीद हो गए। भगत सिंह की फांसी के बाद उन्होंने उनके बारे में कुछ ऐसी बातें कही थी जिन्हें आप नहीं जानते होंगे। आज हम आपको वही बातें बताने जा रहे हैं।

आपको बता दें कि केंद्रीय संसद की कार्यवाही के दौरान बम फेंकने के आरोप में अंग्रेजों ने भगत सिंह, शिवराम राजगुरु और सुखदेव को 23 मार्च 1931 को मृत्युदंड दे दिया था। उनके इस बलिदान पर हर साल देश में शहीद दिवस मनाया जाता है।

“उन्होंने कहा- जब लाहौर से ये भगत सिंह और उनके साथियों की फांसी की खबर आई, हम सब लोगों की एक अजीब सी हालात हो गई थी। जहां सब इस बात की उम्मीद लगाए बैठे थे कि मुल्क की आवाज पर सरकार जरूर ख्याल रखेगी वहां नतीजा दूसरा निकला”।

नेहरू ने कहा कि “मेरे दिमाग में एक अजीब सी हसरत हो गई है। मेरे दिमाग में परेशानी कायम रहती है, हमारे सब के अंदर एक अजीब सी परेशानी है”

“भगत सिंह की फांसी से मुल्क में एक अजीब सी लहर फैल गई है, क्या वजह है कि आज भगत सिंह का नाम सबकी जुबान पर चढ़ा हुआ है। भगत का नाम क्या कीमत हमारे लिए रखता है? आज भगत सिंह सबका प्यारा हो रहा है। गांव का बच्चा- बच्चा इसका नाम जानता है। आज घर घर में इसके नाम की चर्चा है। इसकी कोई वजह जरूर है”।

“भगत सिंह क्या था वो एक नौजवान लड़का था” उसके अंदर मुल्क के लिए आग भरी पड़ी थी। वह शोला था। चंद महीनों के अंदर वह आग की एक चिंगारी बन गया जो मुल्क के एक कोने से दूसरे कोने तक फैल गई। मुल्क में अंधेरा था और चारों तरफ अंधेरा ही अंधेरा नजर आता था। वहां अंधेरी रात में एक रौशनी दिखाई देने लगी”।

नेहरू ने अंग्रेजी हुकूमत से कहा “हमारा यानी कांग्रेस का प्रोग्राम साफ है। हम कहते हैं कि शांति से हम काम करेंगे, हम शांति कायम रखने की हरेक कोशिश करते हैं। हम चाहे कितनी कोशिशें क्यों न करें, हमारे रास्ते में अड़चने लगाई जा रही है। क्या भगत सिंह की फांसी से मुल्क में अशांति नहीं फैलेगी”?

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here