देश अभिनंदन का जश्न मना रहा था, इन शहीदों की हो रही थी आखिरी विदाई

0
460

भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन के इंतजार में शुक्रवार सुबह से ही पूरा देश लगा हुआ था, लेकिन उसी वक्त कोई ऐसा भी था जिसने अपनों को हमेशा-हमेशा के लिए खो दिया था. दरअसल, जब देश अभिनंदन का बेसब्री से इंतजार कर रहा था तभी देश की सेवा करते हुए अपनी जान की बाजी लगाने वाले कुछ जाबांज जवानों को अंतिम विदाई दी जा रही थी. चंडीगढ़ में वायुसेना के स्क्वाड्रन लीडर सिद्धार्थ वशिष्ठ, नासिक में 33 साल के रहे पायलट निनाद मंडावगने, हरियाणा के सार्जेट विक्रांत सेहरावत और मथुरा के टैक्निकल नायक एयरमैन पंकज नौहवार को अंतिम विदाई दी गई.

हर दिल में जिंदा रहेंगे शहीद
वायुसेना के स्कवाड्रन लीडर सिद्धार्थ वशिष्ठ का चंडीगढ़ में पूरे सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया. इस दौरान उनकी पत्नी आरती ने वर्दी पहनी हुई थी और वो दुखी थी. दरअसल, आरती वायुसेना में खुद स्कवाड्रन लीडर हैं. ये पल उनके लिए बड़ा अजीब था. वहीं नासिक में पायलट निनाद मंडावगने का अंतिम संस्कार नासिक में पूरे ही सम्मान के साथ किया गया. दूसरी तरफ हरियाणा के झज्जर जिले के बधानी गांव में शहीद सार्जेट विक्रांत सेहरावत का अंतिम संस्कार भी पूरे सम्मान के साथ किया गया. साथ ही मथुरा के रहने वाले टैक्निकल नायक एयरमैन पंकज नौहवार का भी शुक्रवार को उनके पैतृक जरैलिया में पूरे मिलट्री सम्मान के साथ उनको आखिरी विदाई दी गई.

गौरतलब, है कि जम्मू-कश्मीर के बडगाव में हुए हेलिकॉप्टर क्रैश हुआ था, जिसमें 2 पायलट और अन्य 4 वायुसेना अफसरों का निधन हो गया था. वहीं शहीद के अंतिम संस्कार के दौरान खींची गई तस्वीर भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं. सोशल मीडिया पर लोगों का कहना है कि हमें इनकी शहादत कभी नहीं भूलनी चाहिए. ये भी पढ़ें: रुस के राष्ट्रपति पुतिन ने पीएम मोदी को किया फोन कहा अभिनंदन है, हम आपके साथ हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here