जब भारतीय जवानों ने छाती पर बम रखकर उड़ा दिया था पाकिस्तानी टैंक, मच गया था हाहाकार

0
471

राजस्थान के भरतपुर में आज भी पकिस्तान का एक टैंक ऐसा है जिसे भारतीय सेना युद्ध जीतने के बाद अपने साथ ले आई थी. इससे पता चलता है कि हमारी भारतीय फौज के इरादे कितने बुलंद और वो कितनी बहादुर है. इस टैंक को अमेरिका ने पाकिस्तान को भारत से लड़ने के लिए दिया था. दरअसल, 1971 में हुए युद्ध में भारतीय फौज इस टैंक को युद्ध जीतने के बाद अपने साथ ले आई थी और अब ये राजस्थान के भरतपुर में स्थित गोवर्धन गेट चौराहे पर रखा हुआ है. जहां से ये भारतीय सेना की बहादुरी और पाकिस्तान की बुजदिली दर्शाता है.

भारतीय सेना के आगे फेल हुआ ये टैंक
1971 में हुई लड़ाई में पाकिस्तान के हराने के बाद भारतीय सेना इस टैंक को अपने साथ ले आई थी. पाकिस्तान को जिस वक्त ये टैंक अमेरिका ने सौंपा था तो इसकी खूबिया बताते हुए कहा था कि ये अविजित टैंक है, जिस पर किसी भी बम, मिसाइल या आग्नेय शस्त्र का असर नहीं हो सकता. वहीं भारतीय सेना ने इन टैंकों और पाकिस्तान को धूल चटाने की ठान रखी थी. जिसके चलते भारतीय जवानों ने ऐसे टैंकों को खाई खोद और अपनी छाती पर बम रख कर इन्हें ध्वस्त कर दिया था. ऐसे में पकिस्तान को न सिर्फ बड़ा धक्का लगा बल्कि उनके जीत के मंसूबों पर भी पानी फिर गया.

1971 में दोनों देशों के बीच हुए युद्ध में भरतपुर के भी 3 जवान वीरगति को प्राप्त हुए. इन जवानों ने देश के लिए अपनी जान की बाजी लगा दी. वहीं इसके बाद रक्षा मंत्रालय ने पाक के इस अविजित टैंक को भरतपुर को बतौर अवॉर्ड दिया था. ये भी पढ़ें: अभिनंदन की रिहाई पर बोले पीएम मोदी ये प्रैक्टिस थी, अब रियल करना है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here