Categories
देश

सांसद, विधायक टोल क्यों नहीं देते पर नितिन गडकरी ने बताया सच…

दिल्ली। आम जनता महंगे टोल से परेशान रहती है लेकिन भुगतान करती है। सांसद और विधायक टोल क्यों नहीं देते? केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने इस सवाल का बेहतरीन जवाब दिया है। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि सरकार ने सेना, एंबुलेंस, टैक्ट्रर से माल लेकर जाने वाले किसानों, सांसदों और विधायकों को छूट दी है। उन्होंने कहा कि सबको छूट देना मुनासिब नहीं है। सभी को छूट नहीं दिया जा सकता है। उन्होंने कहा कि अगर अच्छे रोड पर जाना है तो पैसा देना होगा।

सुविधाओं की कीमत चुकानी होगी

नितिन गडकरी ने कहा कि पहले लोग ट्रैफिक में फंसते थे। पेट्रोल और डीजल पर जो पैसा बर्बाद होता था। अब अच्छे रोड बनने से पैसा बच रहा है तो उसके बदले टोल देने में क्या परेशानी है? सभी को टोल का पैसा देना चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार ने रोड बनाने के लिए पैसा उधार लिया है जो उसे चुकाना है और ब्याज देना है। इसलिए टोल लगाना पड़ता है। टोल से एकत्रित पैसे नयी सड़कों के बनाने पर खर्च होता है। अब सरकार देश के छोटे-छोटे लोगों के पैसे से सड़क बनाएगी।

आम लोगों से लेंगे पैसा

नितिन गडकरी ने इन्फ्रा बॉन्ड की चर्चा करते हुए कहा कि आप बैंक में पैसा रखते हैं कितना ब्याज मिलता है। आप रोड बनाने के लिए पैसा दें तो सरकार उस पर ज्यादा ब्याज देगी। दिल्ली-मुंबई हाइवे पर एक लाख करोड़ रुपये खर्च हो रहे हैं तो उसके लिए लोगों से बॉन्ड के रूप में पैसा लिया जाएगा। जनता से पैसा लिया जाएगा और उसका सही उपयोग जनता के लिए होगा। नितिन गडकरी ने कहा कि देश में 26 ग्रीन एक्सप्रेस हाईवे बन रहे हैं। दो साल में सड़क के जरिए दिल्ली से श्रीनगर 8.5 घंटे में पहुंचेंगे। सड़क बनाने में हम ट्रांसपरेंट, रिजल्ट ओरिएंटेड, टाइम बाउंड और क्वालिटी कान्शियस हैं। इनमें सभी मानकों को पूरा करना ही है।

यह भी पढ़ेंः-नितिन गडकरी ने पत्नी को बिना बताए ससुर के घर पर चलवा दिया था बुलडोजर