sea breaker

दुनिया के सामने इजरायल ने पांचवी पीढ़ी की सी ब्रेकर मिसाइल को प्रस्तुत किया है। कंपनी राफेल एडवांस्ड डिफेंस सिस्टम्स ने इस महाविनाशक मिसाइल को बनाया है। इसका शुभारंभ बुधवार के दिन इजरायली के रक्षा मंत्री द्वारा किया गया। इस मिसाइल का मुख्य गुण ये है कि समुद्र या जमीन से इसके द्वारा फायर भी किया जा सकता है जो 300 किलोमीटर की दूरी में खड़ें दुश्मन का खात्मा भी कर सकती है। केवल यही नहीं इजरायल की कंपनी इस मिसाइल को भारत को ऑफर करने के बारे में सोच भी रही है।

सी ब्रेकर मिसाइल

पांचवी पीढ़ी की लंबी दूरी तक मार करने वाली सी ब्रेकर मिसाइल, ऑटोनोमस प्रिसिजन गाइडेड मिसाइल सिस्टम है। किसी भी देश की नौसेना की क्षमता को इस मिसाइल के जरिए कई गुना ज्यादा बढ़ाया जा सकता है। इसको किसी भी सैन्य क्षेत्र से फायर किया जा सकता है। सूत्रों की मानें तो आने वाले कुछ दिनों में इसे भारत को ऑफर करने का प्रस्ताव भी रखा जा सकता है।

भारत में इनके काम करती है ये कंपनी

ये कंपनी भारत के कल्याणी ग्रुप के साथ मिलकर एक वेंचर भी चलाती है। इसका नाम कल्याणी राफेल एडवांस्ड सिस्टम्स (KRAS) है। बता दें कि कल्याणी ग्रुप भारत फोर्ज के नाम से अपनी डिफेंस और एयरोस्पेस कंपनी का संचालन करती है। ये दोनों ( राफेल एडवांस्ड और कल्याणी ) एक साथ मिलकर भारतीय सशस्त्र बलों के लिए कई तरह के हथियारों और गाड़ियों पर काम भी कर रहे हैं।

इसी के साथ सी ब्रेकर मिसाइल इलेक्ट्रो-ऑप्टिक्स, कंप्यूटर विजन, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और निर्णय लेने वाले एल्गोरिदम से लैस भी है। ऐसे में अगर अंतिम समय में भी मिसाइल को अपना उद्देश्य चेंज करना पड़ें तो ये आराम से बिना किसी दिक्कत के हो जाएगा। प्रिसिजन गाइडेड होने के कारण यह मिसाइल बहुत सटीक तरीके से लक्ष्य को भेदने में सक्षम है। इसमें एक उन्नत आईआईआर (इमेजिंग इन्फ्रा-रेड) सीकर भी लगा हुआ है, जो जमीन या समुद्र में स्थिर या गतिमान लक्ष्य को पिन पॉइंट एक्यूरेसी से फोकस कर निशाना बना सकता है।

क्या है खतरनाक होने का कारण

समुद्र और जमीन दोनों ही जगहों पर काफी नीचे उड़ान भरने के कारण ये मिसाइल प्रसिद्ध है। इसकी आहट संमुद्र या जमीन पर घाट लगाए बैठे दुश्मन जान ना पाएंगे और जब वो दुश्मनों के बहुत करीब आ जाएगी, तो उन्हें वो कोई प्रतिक्रिया देने का समय नहीं देगी। इससे दुश्मन बच जाए ये नामुमकिन ही है।

कहीं से भी किया जाए लॉन्च

इस मिसाइल को नौसेना के बहुत से प्लेटफॉर्म से लांच किया जा सकता है। फॉस्ट अटैक मिसाइल बोट, कोरवेट और फ्रिगेट भी इसी में शामिल हैं। स्पाइडर लॉन्चर्स में इस मिसाइल को फिट किया जा सकता है, जिससे समुद्री किनारों की रक्षा हो सकें। सभी प्रकार के मौसम में यह मिसाइल फायर की जा सकती है।

इसे भी पढ़ें-Gold silver Price Today : सोने के दामों में फिर दिखी बढ़त, जानें क्या हैं आज के रेट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here