कानपुर के इस मेधावी ने बनाया भारत सर्च इंजन, तकनीक की दुनिया में उपलब्धि

कानपुर। भारत हमेशा अपनी बौद्धिक क्षमता के प्रदर्शन के लिए जाना जाता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत से प्रेरणा लेकर कानपुर के युवा तुषार त्रिवेदी ने भारत सर्च नाम का सर्च इंजन बनाया है। तुषार ने दावा है कि उनकी तकनीक इस फील्ड के महारथियों को टक्कर देने में सक्षम है। ‘भारत सर्च‘ बहुत ही आसानी से उपलब्ध, अच्छे यूजर इंटरफेस वाला और तेज डाउनलोड-अपलोड जैसी सुविधा देने वाला एक सर्च इंजन होगा। इसकी गति भी बहुत अधिक है। तुषार ने बताया कि भारत सर्च की तकनीक भारत में ही विकसित की गई है और यह पूर्णतः स्वदेशी है। हमारी तकनीक सर्च इंजन को बाकियों से अलग और बेहतर बनाती है। उपयोक्ताओं को इस सर्च इंजन से लाभ मिलेगा। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘आत्मनिर्भर भारत’ से प्रेरणा लेकर इस परियोजना पर काम करना शुरू किया। तुषार कानपुर के रहने वाले हैं और अपनी टीम के साथ मिलकर ‘भारत टेक‘ नाम की एक फर्म बनाई है। भारतटेक के तहत काम करते हैं। इसके साथ ही राष्ट्रीय कैडेट कोर की तरफ से श्रीलंका के इंडियन यूथ एंम्बेसडर भी रह चुके हैं। तुषार वर्तमान में इनफर्मेशन टेक्नॉलजी प्रोजेक्ट पर काम कर रहे हैं।

यह भी पढ़ेंः-जल्द ही मोबाइल पर Google Search का बदल जाएगा तरीका, जानिए कैसा दिखेगा गूगल

उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मूलमंत्र आत्मनिर्भर भारत के तहत अपनी टीम के साथ मिलकर भारत सर्च के लिए काम कर रहे हैं। तुषार त्रिवेदी ने बताया कि ‘भारत सर्च‘ प्रोटोटाइप फेज को पार कर चुका है। इस कड़ी में हमने तीन प्रोटोटाइप तैयार कर लिए हैं। अब हम आगे बढ़ते हुए इन्क्यूबेशन लेने या फिर फंड जुटाने के प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि राज्य और केंद्र सरकार तक हमारा यह प्रॉजेक्ट पहुंचे जिससे हमें आगे के लिए मार्गदर्शन मिल सके।

तुषार ने बताया कि हमारी टेक्निकल और मैनेजमेंट टीम इस प्रोजेक्ट को सफल रूप से लोगों तक पहुंचाने का काम करेगी। 21 मार्च को हम एक इन्फर्मेटिव वेबसाइट लॉन्च करेंगे जिस पर अधिक जानकारी होगी। इस वेबसाइट को लॉन्च करने का मकसद है कि अपने प्रॉजेक्ट के बारे में लोगों को ज्यादा से ज्यादा जानकारी दी जाए। इसके साथ ही हमारी पहली सर्विस जून के महीने में आएगी। TRIYO नाम का हमारा ब्राउजर हमारी पहली सर्विस होगी। जो मोबाइल फोन और कंप्यूटर दोनों के लिए उपयोगी होगा।

यह भी पढ़ेंः-चीनी ऐप्स के बैन होने पर आगबबूला हुआ ड्रैगन, भारत को दे डाली ये कड़ी हिदायत

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,092,278FansLike
5,000FollowersFollow
5,023SubscribersSubscribe

Latest Articles