अद्भुत : सैंकडो साल पहले समुद्र में बना ये विशाल मंदिर, सुरक्षा में तैनात विषैले सांप, जानें पूरी कहानी

0
61

वैसे तो भारत देश में बहुत से मंदिर हैं, यहां किसी तरह से मंदिरों की कमी नहीं है. इंडोनेशिया में स्थित एक विशाल मंदिर है, जो कि बेहद खास माना जाता है. सागर तट पर स्थित एक बड़ी सी चट्टान पर इस मंदिर का निर्माण किया गया है. बता दें कि इस चट्टान का निर्माण हजारों साल के पहले समुद्री पानी के ज्वार से हुए शरण के फल स्वरुप हुआ था. मंदिर की बहुत ही रोचक कहानी है, जिसको जानकर आप चौक जायेंगे.

तनाह लोत मंदिर

इस विशेष मंदिर को तनाह लोत मंदिर के नाम से जानते हैं. यह मंदिर मुस्लिम देश इंडोनेशिया के बाली में स्थित है. बता दें कि स्थानीय भाषा में तनाह लोत का मतलब समुद्री भूमि से लिया जाता है.

बाली में सागर तट पर बने 7 मंदिरों में से यह एक है, इन मंदिरों को एक श्रृंखला के रूप में मनाया गया है. श्रंखला में बने मंदिरों की एक खासियत है कि दूर से देखने पर हर मंदिर अगले मंदिर से स्पष्ट दिखाई देता है.

असल में ये मंदिर जिस शिला पर बना हुआ है वह साल 1980 में कमजोर होकर खराब होने लगी थी. इसी के बाद वहां पर आसपास के क्षेत्रों को घातक साबित कर दिया गया था.

इसी चट्टान को बचाने के लिए इंडोनेशिया सरकार की जापान सरकार ने मदद की थी. तब चट्टान के एक तिहाई भाग को कृत्रिम चट्टान से ढक कर एक नया स्वरूप दिया था.

कहा जाता है कि तनाह लोत मंदिर एक पुजारी ने 15 वीं सदी में करवाया था. यह पुजारी समुद्र तट के किनारे चलते हुए ही जगह पर आए थे. यहां की सुंदरता को देखकर वह मंत्रमुग्ध हो गए.

रात भर यहां रुकने के बाद उन्होंने वहां के मछुआरों से इस जगह पर समुद्र देवता का मंदिर बनाने की बात कही. इसीलिए इस मंदिर में पुजारी निरर्थ की भी पूजा की जाती है.

ऐसी भी मान्यता है कि बुरी आत्मा और बुरे लोगों से इस मंदिर को बचाने के लिए इस किले के नीचे रहने वाले अत्यंत विषैले और खतरनाक सांप किया करते हैं.

बताया जाता है कि पुजारी ने अपनी पूरी शक्ति से एक विशाल समुद्री सांप को उत्पन्न किया था, जो अभी भी इस मंदिर की सुरक्षा में लगा हुआ है.

इसे भी पढ़ें-एक्सपर्ट ने दी राहत भरी खबर, ऐसा करने से तीसरी लहर नहीं होगी बच्चों के लिए घातक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here