रक्षाबंधन के मौके पर छलका लता मंगेशकर का दर्द, PM मोदी ने यूं दिया दिलासा, ये थी बड़ी वजह

112

आज रक्षाबंधन (raksha-bandhan) का त्योहार समस्त देश में पूरे हर्षों-उल्लास के साथ मनाया जा रहा है। इस अवसर पर बहनें अपने भाइयों की दीर्घायु और अच्छे स्वास्थ्य की कामना करते हुए उनके कलाई पर राखी बांधतीं हैं।  महामारी के दौर में सामाजिक दूरियों सहित अन्य स्वास्थ्य दिशानिर्देशों का पालन करते हुए रक्षाबंधन का त्योहार मनाया जा रहा है, तो वहीं इस महामारी की वजह से कुछ भाई ऐसे भी हैं, जिनकी कलाई सूनी पड़ गई। इन्हीं भाइयों में से एक भाई हैं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी..आज महामारी के इस दौर में उनकी कलाई सुनी पड़ गई। जिसका मलाल जताते हुए सर्वविख्यात गायिका लता मंगेशकर ने एक वीडियो संदेश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भेजा है, जिस पर प्रतिक्रिया स्वरूप प्रधानमंत्री ने एक तरफ जहां उन्हें दिलासा दिया तो वहीं उनके दीर्घायु होने की भी कामना की है।

ये भी पढ़े :सूनी रह गई बहनों की रक्षाबंधन, है न्याय का इंतजार, सुशांत को याद करते हुए लिखा इमोशनल खत

रक्षाबंधन के मौके पर पीएम मोदी को राखी न बांधने पर अपना मलाल जताते हुए लता मंगेशकर ने कहा कि  ‘नरेंद्र भाई, आज राखी के शुभ अवसर पर मैं आपको प्रणाम करती हूं। राखी तो मैं आज भेज नहीं सकी उसकी वजह सारी दुनिया जानती है। आपने नरेंद्र भाई मोदी अपने देश के लिए इतना काम किया है और इतनी अच्छी बातें की हैं कि देशवासी कभी भूल नहीं सकेंगे।’ ‘आज भारत की लाखों करोड़ों औरतें आपकी तरफ राखी के लिए उनके हाथ आगे हैं, लेकिन राखी बांधना मुश्किल है। पर आप समझ सकते हैं, अगर हो सके तो आप राखी के दिन हमसे वादा कीजिए कि आप भारत को और ऊंचा ले जाएंगे। नमस्कार।’

उधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वर कोकिला लता मंगेशकर के इस संदेश पर प्रतिक्रिया स्वरूप ट्वीट कर कहा कि ‘लता दीदी, रक्षा बंधन के इस शुभ अवसर पर आपका यह भावपूर्ण संदेश असीम प्रेरणा और ऊर्जा देने वाला है। करोड़ों माताओं-बहनों के आशीर्वाद से हमारा देश नित नई ऊंचाइयों को छूएगा, नई-नई सफलताएं प्राप्त करेगा। आप स्वस्थ रहें और दीर्घायु हों, ईश्वर से मेरी यही प्रार्थना है।’ यहां पर हम आपको बताते चले कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लता मंगेशकर हर वर्ष रक्षाबंधन पर राखी बांधतीं हैं, मगर इस वर्ष महामारी के इस दौर में राखी ने बांधने का मलाल उनके ट्वीट पर साफ झलक रहा है।

ये भी पढ़े :रक्षाबंधन पर विशेष संयोग, इस सर्वश्रेष्ठ समय पर बांधे राखी की डोर, भूल से भी ना करें ये गलतियां