Friday, December 3, 2021

तीनों कृषि कानून वापस होने की घोषणा को विपक्ष ने बताया जीत, राहुल गांधी ने कही ये बात

Must read

- Advertisement -

दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को राष्ट्र के नाम संबोधन में बड़ा ऐलान करते हुए तीनों कृषि कानून वापस लेने की घोषणा किया है। पीएम मोदी ने तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा करते हुए आंदोलन कर रहे किसानों से घर वापस लौटने की अपील की है। तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए डेढ़ साल से किसान संगठन विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं। राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर किसान संगठन बैठे हुए हैं। केंद्र सरकार ने किसानों से, किसान संगठनों से बातचीत करने की कोशिश की। किसान संगठन शर्तों के साथ बात करने को तैयार नहीं थे। पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। केंद्र सरकार के इस फैसले पर सियासी दलों के नेता अपनी-अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। किसान संगठन और विपक्ष इसे अपनी जीत बता रहे हैं। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर केंद्र सरकार पर तंज कसा। राहुल गांधी ने ट्वीट किया है ‘‘देश के अन्नदाता ने सत्याग्रह से अहंकार का सिर झुका दिया। अन्याय के खिलाफ ये जीत मुबारक हो!

- Advertisement -

Rahul Gandhi

कांग्रेस नेता संसद में उठाएंगे यह मुद्दा

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि यह किसानों की जीत है जो इतने दिनों से कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं। विरोध प्रदर्शन के दौरान 700 से अधिक किसानों की मौत हो गई, किसानों की मुश्किलों की जिम्मेदारी कौन लेगा? उन्होंने किसानों की प्रदर्शन के दौरान हुई मौत के लिए केंद्र को दोषी ठहराया है। हम इन मुद्दों को संसद में उठाएंगे। कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि काला कानून वापस लेना सही दिशा में उठाया गया कदम है।

किसान आंदोलन तत्काल वापस नहीं होगा : टिकैत

कृषि कानून की वापसी पर किसान नेता और आंदोलन के अगुआ राकेश टिकैत ने कहा कि किसान आंदोलन तत्काल वापस नहीं होगा। संसद में कानून वापस होने के बाद ही इस पर फैसला लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार एमएसपी के मुद्दे पर भी बात करें। इसके साथ ही किसानों से अन्य मुद्दों पर भी बात करने की जरूरत है। किसान संगठनों ने सरकार के इस फैसले का स्वागत किया है।

हर किसानों की हार्दिक बधाई : ममता बनर्जी

बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सरकार के इस फैसले पर ट्वीट किया। ‘‘ये किसानों की जीत है। इस लड़ाई में हिस्सा लेने वाले किसानों को बधाई । हर किसानों को हार्दिक बधाई‘‘

आप नेताओं ने इस फैसले का किया स्वागत

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी केंद्र सरकार के इस फैसले का स्वागत किया। केजरीवाल ने कहा कि आज प्रकाश पर्व के दिन कितनी बड़ी खुशखबरी मिली है। आप नेता और दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि सरकार को किसानों के आगे आखिरकार झुकना पड़ा। सरकार को यह मांग बहुत पहले ही मान लेनी चाहिए थी। सच की जीत होती है। एनसीपी नेता नवाब मलिक ने भी कहा कि सरकार को किसानों के आगे झुकना ही पड़ा।

यह भी पढ़ेंः-सरकार ने तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का निर्णय लिया है: प्रधानमंत्री मोदी

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article