ड्रैगन की अकड़ को तोड़ने के लिए भारत ने उठाया ये बड़ा कदम, खौफ में आया चीन 

111

यह बात तो फिलहाल किसी से छुपी नहीं है कि भारत और चीन के बीच हालात कितने संवेदनशील बन चुके हैं। वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तनाव की स्थिति बरकरार है। तनाव का यह सिलसिला गत चार माह से जारी है। इस तनाव को दूर करने के लिए अनवरत दोनों देशों की तरफ से सैन्य कमांडर स्तर की वार्ता का सिलसिला जारी है, मगर इसका तो फिलहाल कोई सकारात्मक नतीजा निकलकर सामने नहीं आ रहा है। अभी हालात जस के तस बने हुए हैं। बीते दिनों खुद एयर चीफ मार्शल ने भी साफ कर दिया था कि एलएसी पर न तो युद्ध जैसे हालात है और न ही शांति जैसे हालात, लेकिन हमारी सेना चीन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए तैयार है। ये भी पढ़े :चीन को टक्कर देने के लिए तैयार भारत! अब ब्रह्मोस मिसाइल का किया परीक्षण, दुश्मन की चाल को देगा जवाब

उधर, अब इसी कड़ी में भारत ने ड्रैगन के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए वास्तविक नियंत्रण रेखा पर 1 हजार किलोमीटर वाली रेंज की मिसाइलें तैनात करना शुरू कर दी है। इन मिसाइलों को भारतीय अनुसंधान संगठन ने तैयार किया है। भारत अपनी इस मिसाइलों की तैनाती से पाकिस्तान को भी कड़ा संदेश देना चाहता है। बता दें कि केंद्रीय रक्षा मंंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में रक्षा अधिग्रहण परिषद ने निर्भय सब-सोनिक मिसाइल के औपचारिक शुरूआत की मंजूरी दे दी थी।

यहां पर हम आपको बताते चले कि बीते दिनों ने चीन ने भी एक ऐसा ही कदम उठाया था, जिसमें ड्रैगन ने डोकलाम में केडी-63 क्रूज मिसाइल तैनात की थी। जिसका मुंहतोड़ जवाब देते हुए भारत ने भी परमाणु क्षमता से संपन्न पृथ्वी-2 का परिक्षण कर चीन को मुंहतोड़ जवाब देने का काम किया था। गौरतलब है कि भारत और चीन के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तनाव की स्थिति बरकरार है। फिलहाल इस स्थिति पर विराम लगाने के लिए लगातार कूटनीतिक वार्ता का सिलसिला जारी है। ये भी पढ़े :चुनाव से पहले बदले डोनाल्ड ट्रंप के बर्ताव, भारत पर लगाया ये आरोप