S P vaidya

दिल्ली। अफगानिस्तान में तालिबान ने हथियार के बल पर कब्जा कर लिया है। भारत समेत दुनियाभर के तमाम देश अफगानिस्तान के मौजूदा हालात को देखते हुए लगाता चिंतित हैं। तालिबान हमेशा हिंसक गतिधियों, आतंकी गतिविधियों में लिप्त है। ऐसे में जम्मू कश्मीर के पूर्व डीजीपी एसपी वैद्य ने भविष्य के संकट से आगाह किया है। उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान में तालिबान के उदय का असर पूरे साउथ एशिया में पड़ेगा। देशों के राजनीतिक समीकरण के साथ हिंसक वारदातें बढ़ जायेंगी। उन्होंने कहा कि इसका असर जम्मू कश्मीर में भी दिखेगा। भारत को तालिबान से काफी सतर्क रहना होगा। पूर्व डीजीपी एसपी वैद्य ने कहा कि पाकिस्तान अब जैश और लश्कर के आतंकी कैंप पीओके से अफगानिस्तान में शिफ्ट करेगा। पाकिस्तान तालिबान के रास्ते साजिश करेगा। पीओके के आतंकी कैम्प अफगानिस्तान जाने से अंतरराष्ट्रीय जांच में सामने नहीं आयेगा कि पाकिस्तान चला रहा है। साथ ही भारत विरोधी आतंकी गुटों के लिए अब अफगानिस्तान सुरक्षित ठिकाना होगा।

अब फिर हो सकती है साजिश
एसपी वैद्य ने कहा कि अफगानिस्तान में अब अगले 9-11 की साजिश रची जा सकती है। अब जम्मू-कश्मीर में आतंकियों का हौसला बढ़ेगा। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई तालिबान से अपने कुछ आतंकी जम्मू कश्मीर में भेजने के लिए कह सकती है ताकि आतंक का माहौल पैदा किया जा सके।

प्लेन हाईजैक में तालिबान ने की थी पाक की मदद
पूर्व डीजीपी ने कहा कि 1999 में हुए प्लेन हाईजैक में तालिबान ने पाकिस्तानी आतंकियों की मदद की थी। कंधार हाईजैक के दौरान एसपी वैद्य जम्मू के डीआईजी थे और मौलाना मसूद अजहर को कोट भलवल जेल से रिहा किया गया था। वैद्य ने कहा कि अब हमें बेहद सतर्क रहने की जरूरत है। हमें चीन, पाकिस्तान और तालिबान के गठबंधन से निपटना पड़ सकता है। जम्मू-कश्मीर के डीजीपी ने भारत के लिए आने वाले समय को बेहद चुनौतीपूर्ण बताया। भारत को अब बेहद सावधान रहना होगा।

यह भी पढ़ेंः-Former Senator ने पाक को दिखाया आईना , Taliban के समर्थन के साथ Afghan के हाल पर खुश हैं Army Generals