रामदास अठावले ने किया कंगना का बचाव, राउत के बयान पर कहा ‘वो मेरे बहुत अच्छे दोस्त हैं मगर’

73

हर मसले पर अपनी बेबाक राय रखने वाली अभिनेत्री कंगना रनौत ने मुंबई को पाक अधिकृत कश्मीर की संज्ञा दे दी थी। उन्होंने यहां तक कहा था कि मुझे मुंबई पुलिस से डर लगता है, लिहाजा मुझे मुंबई पुलिस की नहीं बल्कि हिमाचल प्रदेश पुलिस की सुरक्षा चाहिए। इतना ही नहीं, अभिनेत्री ने महाराष्ट्र के गठबंधन सरकार की तालिबान सरकार से तुलना कर दी थी। जिसके बाद से अभिनेत्री के बयान को लेकर विवाद अपने चरम पर पहुंच गया और फिर बात यहां तक पहुंच गई कि शिवसेना के राज्यसभा सांसद संजय राउत ने कंगना के बयान का विरोध करते हुए कंगना को मुंबई न आने की हिदायत तक दे दी थी। उधर, राउत के बयान से खफा हुए कंगना ने यहां तक कह दिया था कि आ रही हूं 9 सितंबर को मुंबई, जिसके बाप की हिम्मत हो रोक लें। उनका यह ट्वीट खूब वायरल हुआ।

उधर, अब खबर है कि रामदास अठावले ने संजय राउत के बयान पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि मुझे फिलहाल तो इस पूरे मामले के बारे में पूरी जानकारी नहीं है, लेकिन जिस तरह का बयान संजय राउत ने दिया है, वो बिल्कुल भी ठीक नहीं है। उन्हें इस तरह के वक्तव्यों से परहेज करना चाहिए।  उधर, संजय राउत के संदर्भ में  रामदास अठावले ने कहा कि संजय राउत मेरे बहुत अच्छे मित्र हैं और सामना के संपादक हैं, मगर जिस तरह का बयान उन्होंने दिया है, वो बिल्कुल भी उचित नहीं है। अठावले ने कहा कि मैं इस पूरे मामले की सच्चाई नहीं जानता, मगर अभिनेत्री को धमकी देना दुर्भाग्यपूर्ण है। हम सुशांत सिंंह राजपूत के परिवार को न्याय दिलाने और कंगना के साथ खड़े हैं।

उधर, इस पूरे मामले को लेकर महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस ने कहा कि, “हम किसी के कहने पर सहमत नहीं हो सकते हैं, लेकिन हमें लोकतंत्र में व्यक्त करने के अधिकार का बचाव करना चाहिए! बोलने की स्वतंत्रता, विश्वास की स्वतंत्रता ! आंदोलन, प्रेस की स्वतंत्रता-को दबाया नहीं जा सकता है! हमारे पास दलीलें हो सकती हैं, लेकिन आलोचकों के पोस्टर को चप्पलों से पीटना सही नहीं है। ” उधर, कंगना के बयान को लेकर दो तरह के गुटों का उदय हो चुका है। एक वो जो अभिनेत्री के बयान का पक्षधऱ है, एक वो जो उनके बयान की मुखालफत कर रहा है।

ये भी पढ़े :आ रही हूं मैं मुंबई, हिम्मत है तो रोककर दिखाएं, कंगना रनौत का शिवसेना को खुला चैलेंज