मोदी सरकार पर जमकर बरसीं सोनिया गांधी, पर्यावरण के मामले में PM के रिकॉर्ड को बताया फेल

54
Sonia gandhi-PM Mpdi

कोरोना कहर को रोकने के लिए जहां सभी सरकारें लगातार कोशिशों में लगी हुई हैं तो वहीं दूसरी तरफ मोदी सरकार (Modi Government) की ओर से लाए गए पर्यावरण प्रभाव आंकलन (EIA) 2020 ड्राफ्ट को लेकर हर तरफ उनकी फजीहत हो रही है. लगातार इस मुद्दे को लेकर विपक्ष मोदी की केंद्र सरकार (central government) पर हमलावर है. साथ ही पर्यावरण से जुड़े मसलों को उठाने वाले सामाजिक कार्यकर्ता की तरफ से भी इसका लगातार विरोध किया जा रहा है. इसी बीच इस मुद्दे पर सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) की ओर से लेख लिखा गया है. जिसके जरिए उन्होंने मोदी सरकार की इस नीति की कड़ी निंदा की है.

ये भी पढ़ें:- सचिन पायलट की तरह पिता राजेश पायलट ने भी कांग्रेस को दिखाए थे बागी तेवर, सोनिया गांधी को दी थी सीधा टक्कर

दरअसल एक अंग्रेजी अखबार में सोनिया गांधी की तरफ से लिखा गया है कि, ‘यदि आप प्रकृति की रक्षा करेंगे, तो वह जरूर आपकी रक्षा करेगी. फिलहाल इन दिनों जिस तरह से पूरी दुनिया में कोरोना वायरस महामारी की वजह से संकट पैदा हुआ है, वो सभी मानवों को एक नई सीख देता है. इसलिए हमारा कर्तव्य बनता है कि इस हालात में हम सभी पर्यावरण की रक्षा करें’. इसके आगे उन्होंने ये भी लिखा है कि, ‘हमारे देश को विकास के चलते पर्यावरण की बलि देनी पड़ी है. लेकिन इसका भी एक दायरा होना चाहिए. बीते 6 सालों का रिकॉर्ड देखें तो मौजूदा सरकार का यही हाल रहा है. जिसमें पर्यावरण की रक्षा करने से संबंधित किसी तरह की चर्चा नहीं की गई है. दुनिया के मुकाबले इन मामलों में हम वाकई काफी ज्यादा पीछे छूट चुके हैं. महामारी के मद्देनजर सरकार को इन मुद्दों पर चर्चा करना चाहिए था. लेकिन अभी भी इसे लगातार अनदेखा किया जा रहा है’.

इसके आगे कांग्रेस अध्यक्ष ने मोदी सरकार पर तंज कसते हुए लिखा है कि, पहले कोयला खदानों से जुड़ा मसला हो या फिर अब EIA का नोटिफिकेशन, इसमें किसी से भी कोई प्रतिक्रिया नहीं ली जा रही है. साथ ही सोनिया गांधी ने तो सीधा ये भी लिखा है कि, गुजरात के सीएम के पद से लेकर अब तक नरेंद्र मोदी का ट्रैक रिकॉर्ड पर्यावरण के मामले में वाकई काफी खराब ही रहा है, यहां तक कि अभी ये सरकार ईज़ ऑफ डूइंग बिजनेस के नाम पर सारे नियमों को ध्वस्त करने में लगी हुई है.

इसके अलावा सोनिया गांधी (Sonia Gnadhi) ने आदिवासियों से जुड़े मसले पर भी इस लेख में जिक्र करते हुए मोदी सरकार पर बरसी हैं. उनका कहना है कि यूपीए की ओर से जो एक्ट पास किया गया था उसे इस मौजूदा सरकार ने बदल दिया है. इसके साथ ही सोनिया गांधी ने ये भी डिमांड रखी है कि छोटे कारोबार करने वाले लोगों को सब्सिडी देना जरूरी है. हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि पर्यावरण से जुड़ी नई नीतियों को लाने का कोई विरोध नहीं किया जा रहा है. लेकिन ऐसे मसलों को लाने से पहले इस पर वैज्ञानिकों और एक्सपर्ट से सलाह कर लेनी चाहिए. क्योंकि आप अविरल गंगा के बिना निर्मल गंगा का निर्माण नहीं कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें:- PM मोदी के स्वदेशी नारे पर मोहन भागवत का आया बड़ा बयान, कहा- विदेशी उत्पादों का बहिष्कार करना जरूरी नहीं