अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर चीन को लगा करारा झटका, संयुक्त राष्ट्र में भारत ने मात देकर बनाई अपनी जगह

289
China out of united nation

चीन (China) के साथ चल रही खिंचातनी के बीच भारत (India) हर जगह से ड्रैगन को चित करने में लगा है. वो चाहे आंतरिक मसला हो या फिर अंतर्राष्ट्रीय मुद्दा हो. हर जगह से चीन को मुंह की खानी पड़ रही है. कई महीनों से लगातार चीन भारतीय सीमा के पास अपनी घटिया रणनीति को कामयाब करने की कोशिश में लगा है. लेकिन अभी तक भारतीय जांबाजों के आगे वो अपने गलत मंसूबों में कामयाब नहीं हो पाया है. इसलिए चीन की तिलमिलाहट साफ देखी जा सकती है. इसी बीच भारत ने ड्रैगन को एक और बड़ा झटका दिया है.

ये भी पढ़ें:- भारत चीन सीमा विवाद के बीच अमेरिका का बड़ा फैसला, अब यूरोप से वापस बुला रहा है अपनी सेना

दरअसल भारत ने चीन को पीछे छोड़ते हुए प्रतिष्ठित इकोनॉमिक एंड सोशल काउंसिल (ECOSOC) में अपनी जगह पक्की कर ली है. जी हां खुशखबरी की बात तो ये है कि भारत काउंसिल से संबंधित महिला स्थिति आयोग का सदस्य (Member of Commission on Status of Women) चुन लिया गया है. बता दें कि आयोग में एक सीट पर कब्जा जमाने के लिए तीन देशों में कॉम्पिटिशन चल रहा था. जिसमें भारत, चीन और अफगानिस्तान का नाम शामिल था. इस दौड़ में सबसे ज्यादा वोट भारत और अफगानिस्तान को 54 सदस्यों में से ज्यादातर लोगों ने दिया. लेकिन चीन को यहां से सिर्फ मायूसी हाथ लगी.

बता दें कि इस खुशखबरी की जानकारी खुद संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति (T. S. Tirumurti) ने अपने ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट के जरिए ट्वीट कर दी है. इस खबर को लेकर तिरुमूर्ति ने अपनी खुशी जताते हुए लिखा है कि, ‘भारत ने प्रतिष्ठित ECOSOC में सीट अपने नाम कर ली है. ऐसे में अब भारत महिलाओं की स्थिति पर आयोग (CWS) का सदस्य बन गया है. ये खबर हमें इस बात का अहसास दिलाती है कि महिलाओं को लेकर हमारी जिम्मेदारी किस तरह की है और महिला सशक्तिकरण को लेकर किस दिशा में हम कैसे काम कर रहे हैं. इसके साथ ही तिरूमूर्ति ने उन सदस्यों को भी धन्यवाद दिया है जिन्होंने इस आयोग में भारत का साथ दिया.’ आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आने वाले चार साल तक भारत इस आयोग का सदस्य बना रहेगा.

ये भी पढ़ें:- पाकिस्तान और चीन में छाया मातम, भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल होगा सबसे बड़ा लड़ाका