21 सितंबर से खुल रहे स्कूल, बदल गए हैं सारे कायदे-कानून, अब करना होगा इन नियमों का पालन 

430

कोरोना काल में तो यूं समझिए की बदलावों की बयार बही है। एक ऐसी बयार जिसने वर्षों पुरानी रवायतों को बदल कर रख दिया है। खैर, यह बदलाव अब हमारे लिए बदलाव नहीं बल्कि महफूज होने का ठिकाना बन चुका है। अब इसी बीच गत मार्च माह से बंद पड़े स्कूल अब नए नियमों के साथ खुलने जा रहे हैं। अब यह स्कूल पहले जैसे नहीं रहे। कोरोना के इस दौर में कई बदलाव किए गए हैं। चाहे छात्रों के पढ़ने का तरीका हो या फिर शिक्षकों के पढ़ाने का तरीका हर चीज में एक बदलाव किया गया है, ताकि हर कोई कोरोना के इस दौर में महफूज रहे, तो चलिए अब 21 सितंबर से खुलने जा रहे स्कूलों को किन-किन नियमों का पालन करना होगा। इसके बारे में तफसील से जानने की कोशिश करते हैं। ये भी पढ़े :स्कूल को लेकर मंत्रालय ने जारी की नई गाइडलाइंस, जानें स्टूडेंट्स-टीचर्स को किन नियमों का करना होगा पालन

बंद रहेंगे स्वीमिंग पुल 
यहां पर हम आपको बताते चले कि कोरोना कि इस दौर में जब पिछले कई महीनों से वीरान पड़े स्कूल अब आगामी 21 सितंबर से छात्रों की आमद से गुलजार होने जा रहे हैं, तो उन सभी चीजों को लेकर सख्ती बरती गई है, जिससे संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है। उसमे से पहला है, स्वीमिंग पुल, जी हां.. भले ही स्कूल खुले रहेंगे मगर स्वीमिंग पुल को खोलने की इजाजत नहीं दी गई है। यह दिशानिर्देश स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी किए हैं।

रखना होगा तापमान का लिहाज 
उधर, स्कूल खुलने के साथ ही तापमान का भी लिहाज रखना होगा। एयर-कंडीशनिंग और वेंटिलेशन के लिए सभी एयर कंडीशनिंग उपकरणों की तापमान सेटिंग 24-30 डिग्री सेल्सियस की सीमा में होनी चाहिए। इसके अलावा सापेक्ष आर्द्रता (relative humidity) 40-70% की सीमा में होनी चाहिए। क्लासरूम मेें तेज हवा को अनिवार्य बनाया गया है।

नहीं होगा कोई कार्यक्रम 
इसके साथ ही कोरोना के दौर को ध्यान में रखते हुए स्कूलो  में किसी भी प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम पर पाबंदी लगाई  गई है। साथ ही बच्चों के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया  गया है।

लागू किया गया कलेंडर 
उधर, अभी स्कूल महज 9वीं से 12वीं तक के छात्रों के लिए खुलने जा रहे हैं, लिहाजा इन सभी छात्रों के लिए कलेंडर जारी किए गए हैं, जिनका इन्हें अनुपालन करना होगा। स्कूलों में भीड़भाड़  पर सख्त पाबंदी लगाई गई है। वहीं, स्कूलों को पूरी तरह से सेनिटाइज किया जाएगा।  उन परिसरों को एक प्रतिशत सोडियम हाइपोक्लोराइट सॉल्यूशन वाले पदार्थों से साफ करना होगा।

किन स्कूलों को खोला जा रहा है 
यहां पर हम आपको बताते चले कि महज उन्हीं स्कूलों को खोलने की इजाजत मिली है, जो कंटेनमेंट जोन के बाहर के हैं। कंटेमेंट जोन के बाहर के स्कूलों को सरकारी नियमों के मुताबिक, खोलने की इजाजत मिल गई है। साथ ही फिजीकल टिचिंग पर फिलहाल पाबंदी लगी हुई है। ये भी पढ़े :UP में इस दिन से खुल जाएंगे सभी स्कूल, शिक्षकों सहित छात्रों को करना होगा इन नियमों का पालन