‘पाकिस्तानी मंच पर कांग्रेस ने भारत का बनाया मजाक’ शशि थरूर के बयान पर भड़की भाजपा

32
sambit patra shashi
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पाकिस्तान के लाहौर थिंक फेस्ट (Lahore Think Fest) कार्यक्रम में शामिल हुआ था। इस कार्यक्रम के दौरान उन्होंने भारत को लेकर ऐसा बयान दिया है भाजपा हमलावर बन गई है। भारतीय जनता पार्टी (BJP) के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा (Sambit Patra) ने निशाना साधा है। शशि थरूर के बयान को संबित पात्रा ने भारत की बदनामी बताई है। संबित पात्रा ने कहा, शशि थरूर ने लाहौर थिंक फेस्ट में जो बोला, वो सबने सुना, लेकिन उस पर भरोसा नहीं हो रहा।

यह भी पढ़े- अपने ही पटौदी पैलेस को पाने के लिए सैफ अली खान ने चुकाए 800 करोड़ रुपये, जानें क्या है वजह

संबित पात्रा ने शशि पर निशाना साधते हुए कहा है, शशि थरूर ने भारत का मज़ाक बनाया है, भारत को बहुत ही खराब दृश्य से दिखाने की कोशिश की है, जिसमें उन्होंने कहा कि भारत की सरकार कोविड के मैनेजमेंट में कहीं-कहीं फेल हो रही है। भारत की मीडिया पोल के जरिए दिखा रही है कि जनता-जर्नादन मोदी सरकार द्वारा उठाए गए कदमों से संतुष्ट है। संबित पात्रा ने शशि का बयान का करारा जवाब देते हुए आगे कहा कि कोविड 19 के कहर के बाद भारत पर पूरे विश्व की नजर है कि किस प्रकार मोदी सरकार सुरक्षा व्यवस्था का ध्यान दे रही है।

संबित पात्रा ने आगे कहा, कोरोना काल में समय से लॉकडाउन लगाया। किस प्रकार 80 करोड़ लोगों को खाद्यान्न पहुंचाने का काम किया गया और आगे भी छठ पूजा तक चलता रहेगा। किस प्रकार से 150 देशों को हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन पहुंचाने का काम मोदी सरकार ने किया। इन सभी के बावजूद इस प्रकार का स्टेटमेंट देना कि भारत सरकार फेल हो गई है वह भी लाहौर में। आप सोचिए कि किस प्रकार की मनोस्थिति कांग्रेस पार्टी और राहुल गांधी के मित्र शशि थरूर की है।

बता दें कि, शशि थरूर ने लाहौर थिंक फेस्ट में कहा था, एक-दूसरे से डर का माहौल बनाया जाता है। मुझे नहीं पता कि आप लोगों में से कितनों ने वो व्हाट्सऐप वीडियो देखे हैं जिनमें चीनी लोगों या उनके जैसे दिखने वाले लोगों के साथ पश्चिमी देशों जगह जगह जैसे सुपर मार्केट, रेस्टोरेंट में भेदभाव होता है सिर्फ इसलिए कि वो चीनी लोगों जैसे दिखते हैं। भारत में हम यही समस्या उत्तर पूर्व के लोगों के साथ देखते हैं क्योंकि वो अलग दिखते हैं। इस तरह के भेदभाव के खिलाफ हम भारत में लड़ाई लड़ रहे हैं।