युवती की जिद के आगे रेलवे ने किया सरेंडर, इकलौती सवारी के लिए 535 किमी तक दौड़ी राजधानी

1609

क्या कभी किसी ने सुना है, कि एक सवारी के लिए पूरी रेल का संचालन किया गया हो। आमतौर पर रेल में एक हजार से भी यात्री एक साथ सफर करते हैं। लेकिन इन दिनों कुछ ऐसा हुआ कि एक युवती की जिद के आगे रेलवे को झुकना पड़ा, इतना ही नहीं युवती पूरी 535 किलोमीटर का अकेला सफर तय कर राजधानी एक्सप्रेस से रांची पहुंची। दरअसल हुआ कुछ यूं था कि युवती ने रांची जाने के लिए राजधानी एक्सप्रेस का टिकट बुक किया था। लेकिन टाना भगतों के आंदोलन के चलते ट्रेन डालटनगंज स्टेशन पर ही ठहर गई। उस दौरान ट्रेन में करीब 930 यात्री मौजूद थे, इसमें मुगलसराय से रांची के लिए रवाना हुईं अनन्या भी सवार थीं। हालांकि आंदोलन के चलते रेल प्रशासन ने अन्य यात्रियों से बस से जाने का आग्रह किया, लेकिन अनन्या की जिद थी कि वह जाएंगी तो राजधानी एक्सप्रेस से ही. यदि बस से जाना होता तो ट्रेन का टिकट क्यों लेती. बस से सफर कर रांची आती. टिकट राजधानी एक्सप्रेस का है तो इसी से जाऊंगी।

ये भी पढ़ें:-Special Trains: स्टूडेंट्स के लिए खुशखबरी, UP में रेलवे परीक्षार्थियों के लिए चला रही है ये 5 जोड़ी स्पेशल ट्रेनें

रेलवे प्रशासन ने युवती को काफी समझाने का प्रयास किया लेकिन अनन्या अपनी बात पर अडिग रहीं। इतना ही नहीं इस पूरे मामले की जानकारी रेलवे डीआरएम को दी गई। अंत में जिद के आगे रेल प्रशासन को झुकना पड़ा. राजधानी एक्सप्रेस शाम करीब चार बजे डालटनगंज से वापस गया ले जाकर गोमो और बोकारो होते हुए रांची के लिए रवाना करनी पड़ी। इस दौरान ट्रेन ने करीब 535 किलोमीटर का सफर तय कर रात एक बजकर 45 मिनट पर युवती को रांची पहुंचाया।

ट्रेन में अनन्या इकलौती सवारी थी. 930 यात्रियों में 929 को रेलवे डालटनगंज से बसों से गंतव्य की ओर पहले ही रवाना कर चुकी थी. संभवत: रेलवे के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब एक सवारी को छोड़ने के लिए राजधानी एक्सप्रेस ने 535 किलोमीटर की दूरी तय की। बता दें कि अनन्या बीएचयू में एलएलबी की पढ़ाई करती हैं। अनन्या की सुरक्षा के लिए आरपीएफ की कई महिला सिपाही तैनात की गई थीं।

ये भी पढ़ें:-दशहरा, दिवाली और छठ की तैयारियां शुरू, रेलवे इन रुट्स पर चलाएगा 120 नई स्पेशल ट्रेनें