राजस्थान में खुलेआम दबंगई, पुजारी को आरोपियों ने जिंदा जलाया, विवाद के चलते ली जान

99
priest burnt alive by accused

महाराष्ट्र में हुई साधुओं की हत्या के बाद एक बार फिर ऐसा ही एक मामला सामने आया है, जिसने लोगों को हिलाकर रख दिया है. इस मामले ने एक बार फिर महाराष्ट्र में साधुओं की की गई बेदर्दी से हत्या को याद दिला दिया है. हैरानी वाली बात तो ये है कि राजस्थान में हैवानियत की सारी हदें पार कर दी गई हैं. जी हां राजस्थान के करौली में जमीन विवाद के मामले में एक पुजारी को बुरी तरह से जलाकर मार दिया गया है. बताया जा रहा है कि जख्मी हालत में पुजारी को अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था, लेकिन वहां पर उपचार के दौरान पुजारी की हॉस्पिटल में ही मौत हो गई है.

ये भी पढ़ें:- पूर्व CBI निदेशक अश्वनी कुमार का सुसाइड नोट लगा पुलिस के हाथ, बताई आत्महत्या की असली वजह

बताया जा रहा है कि ये विवाद जमीन को लेकर हुआ था. जिसमें आरोप लगाया गया है कि दबंगों ने जमीन पर कब्जा करने को लेकर पुजारी को जलाकर मार दिया. ये दर्दनाक घटना वाकई मानवता को शर्मसार कर देने वाली है. पुजारी की मौत के बाद पूरा परिवार जयपुर के एमएसएस अस्पताल के बाहर ही प्रदर्शन करने बैठ गया है. जानकारी की माने तो मौके पर पहुंचे पुलिस अफसर और परिवार के बीच इस घटना को लेकर लगातार बातचीत जारी है. कहा जा रहा है कि, सपोटरा एसएचओ को सस्पेंड करने के बारे में कोई फैसला किया जा सकता है. इसके साथ खबर ये भी आ रही है कि पुजारी के शव को सुरक्षा के साथ करौली पहुंचाया जाएगा. कहा जा रहा है कि इस केस में जांच के लिए उच्च अधिकारी करौली का जायजा लेने जा सकते हैं.

इस मामले के बारे में बयान देते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि, करौली में बाबूलाल वैष्णव जी की हत्या अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण और काफी ज्यादा निंदनीय है. एक सभ्य समाज में इस तरह के कृत्य की कोई जगह नहीं है. प्रदेश सरकार ऐसी दुखद भरी घड़ी में परिजनों के साथ है. घटना के आरोपी को अरेस्ट कर लिया गया है, साथ ही उनके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है. मामले के दोषियों को किसी भी कीमत पर छोड़ा नहीं जाएगा. फिलहाल इस मामले को लेकर संत समाज में एक बार फिर गुस्से का माहौल देखने को मिल रहा हैं.

ये भी पढ़ें:- गोलियों की तड़तड़ाहट से गूंजा पटना, चुनाव से पहले BJP नेता की बेरहमी से गोली मारकर की गई हत्या