Tuesday, January 26, 2021
Home देश राजस्थान बाबा रामदेव पर दर्ज हुई FIR, आचार्य बालकृष्ण भी हुए शिकार, कानूनी...

बाबा रामदेव पर दर्ज हुई FIR, आचार्य बालकृष्ण भी हुए शिकार, कानूनी पचड़े में आए इनके भी नाम!

दुनिया में कोरोना वायरस का कहर अपने चरम पर है, जिसके चलते अधिकांश देशों में लॉकडाउन की स्थिति बनी हुई है. वहीं इस कोरोना महामारी की दवा को लेकर भी कई देशों में क्लीनिकल ट्रायल पर जोर दिया जा रहा है, लेकिन वैज्ञानिकों के तमाम प्रयास के बाद भी इसकी वैक्सीन अभी तक नहीं बन पाई है. ऑक्सफोर्ड जैसे बड़े वैज्ञानिक भी कोरोना की वैक्सीन का इजाद नहीं कर पाए हैं. हालांकि बड़े पैमाने पर रिसर्च जारी है. बहरहाल इस बीच भारत में कोरोना के इलाज के लिए योग गुरू बाबा रामदेव ने कोरोनिल दवा को लॉन्च कर अपने लिए परेशानी और ज्यादा बढ़ा ली है. दरअसल केंद्रीय आयुष मंत्रालय ने बाबा रामदेव की कोरोनिल दवा को बैन करने का फैसला लिया है. चूंकि बाबा पर आरोप है कि इन्होंने बिना किसी टेस्टिंग के इस दवा का दुरुपयोग किया है. जबकि कोरोना की वैक्सीन बनी ही नहीं है. विदेशों में भी इस पर रिसर्च चालू है लेकिन वैक्सीन बनने की संभावना कहीं से नजर नही आ रही है. तो ऐसे में बाबा रामदेव ने कौन सी चमत्कारी चीज इस दवा में मिलाई जो कोरोना से लड़ने में सक्षम है?.

ये भी पढ़ें:-राजस्थान के बाद अब महाराष्ट्र बना दूसरा राज्य, जिसने लगाई बाबा रामदेव की दवा पर पाबंदी, जानें क्या है वजह 

वहीं बाबा रामदेव की दवा पर देश में बड़े पैमाने पर सियासत हो रही है, बता दें कि राजस्थान में बाबा रामदेव के खिलाफ (FIR) दर्ज की गई है. जानकारी के मुताबिक, बाबा रामदेव और फार्मेसी के प्रबंध निदेशक आचार्य बालकृष्ण और पतंजली रिसर्च इस्टीट्युट के वरिष्ठ वैज्ञानिक अनुराग वाष्णेर्य के अलावा डॉ. बलवीर सिंह तोमर व डॉ.अनुराग सिंह तोमर के खिलाफ राजस्थान की राजधानी जयपुर के ज्योतिनगर थाने में केस दर्ज किया गया है. बताया जा रहा है कि बाबा को गलत दवाई पेश करने के आरोप में यह केस दर्ज किया गया है. इससे पहले केंद्रीय मंत्री शांति धारीवाल भी बाबा और उनके साथियों पर कड़ी कार्यवाई करने की बात कह चुके हैं.

patanjali-ayurved

मालूम हो कि एफआईआर में आरोप है कि महामारी के दौरान लोगों को धोखा देकर, फर्जी दवाई बनाकर अरबों रुपए कमाने के आशय से आरोपियों ने योजनाबद्ध तरीके से सभी टीवी चैनल्स पर कोविड-19 की दवा कोरोनिल बना लेने का दावा किया है. यह धारा 188, 420, 467, 120बी, भादस संगठित धारा 3, 4, राजस्थान एपीडेमिक डिजीज ऑर्डिनेंस 2020, धारा 54, आपदा प्रबंधन अधिनियम एवं धारा 4/7  और ड्रग्स एंड मेजिक रेमेडीज एक्ट 1954 के अधीन दंडनीय अपराध है.

ये भी पढ़ें:-राजस्थान के बाद अब महाराष्ट्र बना दूसरा राज्य, जिसने लगाई बाबा रामदेव की दवा पर पाबंदी, जानें क्या है वजह 

Most Popular