gujrat flood

गुजरात के कई शहर में भारी बारिश के कारण पानी ही पानी का मंजर हैं। वहां पर बाढ़ के हालात बन गए हैं। इस बाढ़ का सबसे अधिक असर राजकोट और जामनगर में हुआ हैं। बादल फटने से राजकोट में बीते 24 घंटों में 7 इंच और जामनगर में 10 इंच बारिश दर्ज की गई है। इससे कई इलाकों में 10 फीट तक पानी आ चुका है।

हर जगह हाल बेहाल

जूनागढ़ में भी 6 इंच बारिश दर्ज की गई है। इससे सोनरख और कालवा नदियों में बाढ़ आ गई। इससे निचले इलाकों के कई सारे घरों में पानी भर गया और वो डूब गए हैं। फायर ब्रिगेड और पुलिस कीGujarat Flood: भारी बारिश के कारण बाढ़ का पानी घरों में घुसा, राहत-बचाव कार्य के लिए NDRF और एयरफोर्स तैनात टीमों ने रेस्क्यू ऑपरेशन चालू कर दिया है। मदद के लिए दूसरे जिलों से भी टीमों को बुलाया गया है।इसमें तीन गांव ऐसे भी हैं, जहां बाढ़ के कारण सबसे ज्यादा तबाही मची है।

बचाए गये इतने लोग

जामनगर के जितने भी निचले इलाके हैं, उनमें हालात भयानक हो चुके हैं। लोग अपनी जान बचाने के लिए छतों पर बैठे हुए हैं। उन्हें बचाने में NDRF की पूरी टीम जुटी है। शहर के कालावड में रेस्क्यू कर 31 लोगों के बचाया गया है। NDRF, पुलिस और फायर ब्रिगेड की टीमें अब तक 230 से ज्यादा लोगों को सुरक्षित बचाया है।

नए मुख्यमंत्री हुए एक्टिव

हाल ही में राज्य के नए मुख्यमंत्री बने भूपेंद्र पटेल ने सोमवार दोपहर पद की पहले शपथ ली। इसके बाद ही भूपेंद्र पटेल एक्शन में आ गए है। उन्होंने जामनगर प्रशासन से बाढ़ के हालात पर बातचीतGujarat Flood Due to heavy rains flood water entered the houses NDRF and Airforce deployed for relief work की। इसी के साथ ही पानी से घिरे लोगों को जल्द सुरक्षित जगह पहुंचाने की भी बात कही है।

बंद हुआ जामनगर-कलावड हाईवे

बीते 24 घंटों में जामजोधपुर में 2.25 इंच और जोदिया में 2 इंच बारिश हुई है। वोकरा नदी और नदी-नालों का पानी से हाईवे डूब गया है। इससे जामनगर-कलावड हाईवे को पूर्ण रूप से बंद कर दिया गया है।

इसे भी पढ़ें-अब JioPhone यूजर्स को मात्र 75 रुपये में मिलेगा 3GB डेटा और बहुत सारे नये ऑफर्स