Categories
देश पंजाब

पंजाब सरकार ने गृह मंत्रायल को भेजी रिपोर्ट, बठिंडा SSP ने फिरोजपुर SSP पर लगाया ये आरोप

चंडीगढ़। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक मामले की रिपोर्ट पंजाब सरकार ने गृह मंत्रायल को भेज दी है। गृह मंत्रालय को भेजी गयी रिपोर्ट से कई जानकारियां सामने आई है। पंजाब सरकार ने रिपोर्ट में कहा है कि बठिंडा एसएसपी ने फिरोजपुर एसएसपी पर आरोप लगाया है कि उन्होंने अपने अधिकारों का दुरुपयोग किया। उन्होंने अपने अधिकार क्षेत्र में प्रदर्शनकारियों को पीएम मोदी के रूट में जाने दिया है। गृह मंत्रायल को भेजी रिपोर्ट में कहा गया है कि किसानों का विरोध अचानक हुआ था। मामले में एफआईआर दर्ज की गई है और चूक की जांच के लिए पैनल का गठन किया गया है। पंजाब सरकार ने रिपोर्ट में घटनाओं का क्रम भी साझा किया है। ज्ञात हो कि 5 जनवरी को पंजाब में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक के बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस मामले पर पंजाब सरकार से रिपोर्ट मांगी थी।

pm modi firojpur

पंजाब सरकार ने गुरुवार रात अपनी रिपोर्ट केंद्रीय गृह मंत्रालय को भेज दी है। बताया जा रहा है कि पंजाब के मुख्य सचिव ने पीएम मोदी की सुरक्षा में चूक के कारणों का तथ्यों के साथ रिपोर्ट भेजी है जिसको लेकर जवाबदेही तय की जाएगी। फिरोजपुर में पीएम सुरक्षा में जुटे सीनियर अफसरों से बात कर यह रिपोर्ट तैयार की गई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि पूरे पंजाब में पीएम के दौरे का विरोध हो रहा था। विरोध और प्रदर्शनों को ध्यान में रखते हुए अतिरिक्त सुरक्षाबलों को तैयार किया गया था।

सीएम चन्नी ने चूक से इनकार किया था

पीएम की सुरक्षा का मामला गंभीर हो गया है। पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक से इनकार किया है। उन्होंने कहा कि मुझे खेद है कि पीएम मोदी को आज फिरोजपुर जिले के दौरे के दौरान वापस हौना पड़ा। हम अपने पीएम का सम्मान करते हैं। अगर प्रधानमंत्री की सुरक्षा में कोई चूक हुई है तो हम इसकी जांच कराएंगे। दो सदस्यीय उच्च स्तरीय जांच समिति गठित कर दी गयी है। सीएम चन्नी ने अपनी सफाई में आगे कहा कि हमारे देश में एक लोकतांत्रिक व्यवस्था है। मुझे भी पीएम मोदी के जाना था लेकिन कोरोना पॉजिटिव के संपर्क में आने के कारण मैं नहीं गया। सीएम चन्नी ने कहा कि इसलिए मैंने वित्त मंत्री मनप्रीत बादल और डिप्टी सीएम सुखजिंदर सिंह रंधावा को प्रधानमंत्री का स्वागत करने की जिम्मेदारी सौंपी।

ऐसा है पूरा मामला

5 जनवरी को पीएम मोदी पंजाब के बठिंडा हवाई अड्डे पर पहुंचे थे। यहां से उन्हें हेलिकॉप्टर से हुसैनीवाला में राष्ट्रीय शहीद स्मारक जाना था। खराब रोशनी और बारिश के चलते पीएम मोदी 20 मिनट तक इंतजार करते रहे। मौसम में सुधार नहीं हुआ तो उन्होंने सड़क के रास्ते राष्ट्रीय शहीद स्मारक जाने का फैसला किया। इस रास्ते से 2 घंटे का समय लगना था। पंजाब डीजीपी से सुरक्षा प्रबंधों की पुष्टि के बाद पीएम मोदी सड़क के रास्ते आगे बढ़े। राष्ट्रीय शहीद स्मारक से करीब 30 किलोमीटर पहले पीएम मोदी का काफिला जब फ्लाईओवर पर पहुंचा। फ्लाईओवर से कुछ दूर प्रदर्शनकारियों ने रास्ता रोक रखा था। रास्ता बाधित होने के कारण पीएम मोदी के काफिले को 15-20 मिनट तक फ्लाईओवर पर रुकना पड़ा। इसे पीएम की सुरक्षा में बड़ी चूक माना जा रहा है।

यह भी पढ़ेंः-दो दिन से जमे थे मोदी के काफिले के रास्ते में आने वाले प्रदर्शनकारी, ऐसे मिल रही थी जानकारी