NCC के कार्यक्रम में पीएम मोदी की पाकिस्तान को चेतावनी, कहा- हराने में 10 दिन भी नहीं लगेंगे

0
202
modi

राजधानी दिल्ली में एनसीसी कैटेड्स को संबोधित करने आज पीएम मोदी कार्यक्रम में पहुंचे. उस दौरान उनके साथ राजनाथ सिंह भी पहुंचे हुए थे. उन्होंने कैडेट्स को संबोधित करते हुए कई मसलों पर बात की इसके साथ ही विपक्ष पर भी निशाना साधा. पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि एनसीसी युवाओं को प्रेरित करने और उनकी देशभक्ति की भावना को जगाने का बहुत अच्छा मंच है. क्योंकि ये भावनाएं सीधे देश के विकास से जुड़ी हैं. इसके आगे उन्होंने ये भी कहा कि विश्व में भारत की युवा के रूप में है. यहां के 65 प्रतिशत लोग 35 साल की उम्र से कम के हैं. इस बारे में जानकर च्छा लगता है कि देश युवा है. हमें इसके ले गर्व महसूस होता है. हमारा कर्त्तव्य बनता है कि देश की सोच युवा हो.

पाकिस्तान को हराने में 10 दिन नहीं लगेंगे
आपको बता दें कि कार्यक्रम में पीएम मोदी ने पाकिस्तान का नाम तो नहीं लिया लेकिन उन्होंने निशाना जरूर साधा और कहा कि पड़ोसी देश को हराने में हमें 10 दिन भी नहीं लगेंगे. तीन बार पहले ही पड़ोसी युद्ध में भारत से मात खा चुका है. वह प्रॉक्सी वॉर लड़ रहा है. इसके आगे उन्होंने कहा कि क्या हम अपने युवाओं को ऐसा देश सौंप सकते हैं जहां आतंकवाद की समस्या थी..?

सीएए को लेकर कुछ पार्टियों को वोट बैंक की चिंता
CAA का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने विपक्ष पर भी जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि कुछ पार्टियों को अब अपने वोट बैंक का डर सताने लगा है. इसलिए कुछ लोग ऐसे हैं जो दलितों की आवाज बनने की कोशिश में लग गए हैं. लेकिन ये ऐसे लोग हैं जिन्हें अल्पसंख्यकों पर हो रहे अत्याचार का कोई एहसास नहीं होता, और न ही दिखाई देता है. पाकिस्तान ने विज्ञापन के जिरए हिन्दुओं का अपमान किया है. यहां नागरिकता कानून को लेकर वोट बैंक की राजनीति की जा रही है.

3 दशक में एक भी फाइटर प्लेन नहीं खरीदा गया
इसके अलावा उन्होंने भाषण में ये भी कहा कि पिछले 3 दशकों में वायुसेना के लिए कोई फाइटर प्लेन नहीं खरीदा गया, जिसकी जिम्मेदारी उन्हें नए विमान खरीदकर देने की होती है, वो हाथ पर हाथ धरे बैठे थे, और हमारे कई विमान हादसों का शिकार होते रहे. जिसकी वजह से हमारे फाइटर पायलेट भी शहीद होते रहे. इसलिए जो काम इतने सालों से लटका हुआ था हमने उसे पूरा किया और नेक्स्ट जेनरेशन फाइटर प्लेन राफेल देश को मिल गया है. जो दल्द ही भारत के आसमानों में उड़ता हुआ दिखाई देगा.

नेहरू-लियाकत समझौते और गांधी जी की एक इच्छा
पीएम मोदी ने इस दौरान अपने भाषण में ये भी कहा कि स्वतंत्रता के बाद से स्वतंत्र भारत ने पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान के हिंदुओं, सिखों और अन्य अल्पसंख्यकों से ये वादा किया था कि यदि वो चाहें तो भारत आ सकते हैं. यही इच्छा गांधी जी की थी और यही 1950 में नेहरू-लियाकत समझौते की भी थी. इसी दशकों पुरानी समस्या को अब मौजूदा सरकार सुलझा रही है. हमारे सरकार के फैसले पर जो लोग सांप्रदायिकता का रंग चढ़ा रहे हैं, उनका असली चेहरा भी देश देख चुका है और देख रहा है. मैं फिर कहूंगा- देश देख रहा है, समझ रहा है. चुप है, लेकिन सब समझ रहा है.

ये भी पढ़ें:- नागरिकता संशोधन कानून पर पहली बार बोले पीएम मोदी, मुस्लिमों के लिए कही ये बड़ी बात

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here