पायलट्स एसोसिएशन ने मैनेजमेंट को दी यह धमकी, जल्द कोरोना टीके नहीं लगे तो काम कर देंगे बंद

दिल्ली। कोरोना के कोहराम से पूरा देश संकट में है। एयर इंडिया एयरबस पायलट ने अपने मैनेजमेंट को चेतावनी दी है कि यदि उन्हें प्राथमिकता के आधार पर कोरोना के टीके नहीं लगे तो वे काम बंद कर देंगे। पायलटों की इस चेतावनी से हड़कम्प मच गया है। पायलटों की यूनियन इंडियन कॉमर्शियल पायलट्स एसोसिएशन ने मैनेजमेंट को चेतावनी दिया है। यदि एयर इंडिया की ओर से राष्ट्रीय स्तर पर वैक्सीनेशन कैंप लगाकर क्रू मेंबर्स को टीके नहीं लगाए गए तो वे काम बंद कर देंगे। डायरेक्टर ऑफ ऑपरेशंस को चिट्टी लिखकर एयर इंडिया के पायलटों से कहा है कि मैनेजमेंट की ओर से उन्हें फ्रंटलाइन वर्कर मानते हुए वैक्सीन नहीं लगवाई जा रही है। पायलटों को वैक्सीनेशन नहीं करने से खतरा बढ़ता जा रहा है। पायलट एसोसिएशन ने कहा कि बड़ी संख्या में क्रू मेंबर्स कोरोना पॉजिटिव हुए हैं और ऑक्सीजन सिलेंडरों के लिए तड़प रहे हैं। उन्हें भी स्वास्थ्य सेवा चाहिए।
पायलटों का कहना है कि कोरोना महामारी के बीच वह बिना टीके के अपनी जिंदगी को खतरे में डाल रहे हैं। डेस्क जॉब करने वाले लोगों और वर्क फ्रॉम होम कर रहे लोगों को टीके लगाए जा रहे हैं।

यह भी पढ़ेंःकोरोना महासंकट में भारत की मदद के लिए इन 14 देशा ने बढ़ाए हाथ, स्वास्थ्य उपकरणों सहित दी यह सामग्री

वर्क फ्राम वाले एक तरह से सुरक्षित भी हैं। क्रू मेंबर्स को छोड़ दिया गया है, जिन्हें कोरोना का ज्यादा खतरा है। पायलटों ने अपनी चिट्ठी में लिखा है कि यह दिल तोड़ने वाली बात है। टॉप मैनेजमेंट की ओर से पायलटों को खतरे के बीच काम के लिए छोड़ दिया गया है। एयर इंडिया की ओर से क्रू मेंबर्स और उनके परिवारों को टीके के बिना नहीं छोड़ा जाएगा। उन्हें भी जल्द टीका लगवाया जाएगा। जिन्होंने इस संकट के दौर में राष्ट्र के साथ खड़े होकर काम किया है। इस बीच पायलटों ने कहा कि मैनेजमेंट का यह रवैया निराश करने वाला है।

पायलटों का कहना है कि एक लेवल पर ऐसा नहीं है लेकिन हमें छोड़ देना गलत है। हम हमेषा रिस्क में काम कर रहे हैं। पायलटों की ओर से कोरोना काल में वंदे भारत मिशन और अन्य कामों के लिए लगातार उड़ानें जारी रखने की याद भी दिलाई गई है। यूनियन ने कहा कि अब बिना टीकाकरण के पायलटों की जिंदगी को खतरे में नहीं डाल सकता है। यूनियन ने कहा कि फ्लाइंग क्रू के लिए कोई हेल्थ केयर सपोर्ट सिस्टम नहीं है। हेल्थ केयर सपोर्ट होना चाहिए। हमारे लिए बीमे जैसी कोई व्यवस्था नहीं है और संकट के इस दौर में ही सैलरी कम हुई है।

यह भी पढ़ेंः-कोरोना के कहर से आईपीएल 2021 हुआ निलंबित, बायो बबल सिक्योर एन्वॉयरमेंट में इस तरह हुई चूक

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,092,598FansLike
5,000FollowersFollow
5,023SubscribersSubscribe

Latest Articles