22 जनवरी को नहीं मिलेगी निर्भया के दंरिदों को मौत, कोर्ट ने डेथ वारंट पर लगाया स्टे

807
Nirbhaya_case_update

निर्भया केस (nirbhaya case) के आरोपियों को अब 22 जनवरी 2020 को फांसी पर नहीं लटकाया जाएगा। क्योंकि, पटियाला हाउस कोर्ट (patiala house court) ने दोषी मुकेश सिंह की दायर की गई याचिका पर सुनवाई करते हुए स्टे लगा दिया है और कहा है कि, अब उन्हें सिर्फ जेल में 22 जनवरी को फांसी नहीं देने का नोटिस भेजना है। इसके साथ ही कोर्ट डेथ वारंट जारी करने के लिए नई तारीख के बारे में सोच-विचार कर रहा है। इसके साथ ही कोर्ट ने साफ किया कि, विचार सिर्फ तारीफ पर होगा सजा के आदेश पर नहीं। इस दौरान उन्होंने कहा कि, अब ये भी देखा जाएगा कि, तिहाड़ जेल प्रशासन ने निर्धारित नियमों का पालन किया है या नहीं।

यानि, निर्भया के आरोपी बार-बार अपने हथकंडो को आजमकर मौत से बचते जा रहे हैं। जहां एक तरफ कोर्ट के फैसले के बाद से लोगों में खुशी की लहर दौड़ी थी। निर्भया के परिवार को न्याय मिलने की आस जगी थी। उसी आस और खुशियों पर अब कोर्ट ने स्टे लगाकर निर्भया के आरोपियों को फांसी से बचा लिया है। फिलहाल देखना होगा कि, अब कोर्ट फांसी के लिए कौन-सी नई तारीख जारी करता है।

आपको बता दें, इससे पहले आरोपी मुकेश ने दया याचिका लगाई है जिस कारण फांसी रोकी गई है। अब जब तक राष्ट्रपति याचिका को खारिज नहीं कर देते तब तक फांसी नहीं दी जा सकती।

ये भी पढ़ेंः- राष्ट्रपति के पास पहुंची निर्भया के आरोपियों की दया याचिका, 22 जनवरी को नहीं होगी फांसी