ओवैसी को इकबाल अंसारी से मिला मुंहतोड़ जवाब, भूमि पूजन से कुछ घंटे पहले ही किया था ऐसा tweet

7427

हर मसले को लेकर सियासी राग अलापने वाले हैदराबाद से एआईएमआईएम के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने बुधवार सुबह राम मंदिर भूमि पूजन कार्यक्रम के संदर्भ में ट्वीट कर कहा था कि ‘बाबरी मस्जिद थी, है और रहेगी, इंसा अल्लाह’..बहरहाल, अपने इस ट्ववीट के बाद वे काफी ट्रोल भी किए गए। उधर, ओवैसी को अपने इस बयान के चलते कभी बाबरी मस्जिद के पैरोकारी रहे इकबाल अंसारी से मुंहतोड़ जवाब मिला है। उन्होंने बयान जारी कर कहा कि ओवैसी  क्या करते हैं और क्या नहीं..इसके बारे में, मैं कुछ नहीं कहना चाहता हूं। वह महज राजनीति करते हैं, लेकिन हम राजनीति नहीं करते हैं।

ये भी पढ़े :राम मंदिर ‘भूमि पूजन’ के मौके पर अक्षरा सिंह ने गाया गाना, Video ने इंटरनेट पर मचाया धमाल

बता दें कि इकबाल अंसारी पहले ऐसे व्यक्ति थे, जिन्हें राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल होने के लिए सबसे पहले न्योता मिला था। उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम में आकर आनंद की अनुभूति प्राप्त हुई है। साथ ही उन्होंने आज के दिन भी अपने कटू वक्तव्य से माहौल को वैमनस्य बनाने वाले ओवैसी को आईना दिखाते हुए कहा कि यह हिंदू-मुस्लिम की राजनीति या फिर हिंदू मुस्लिम विवाद को आगे बढ़ाने का समय नहीं है। इकबाल अंसारी ने कहा कि अब इसे लेकर राजनीति बंद होनी चाहिए। समाज में शांति और सौहार्द स्थापित करने की दिशा में कदम आगे बढ़ाए जाने चाहिए।

इसके साथ ही खुद के न्योता मिलने पर इकबाल अंसारी कहते हैं कि लोग हमसे पूछते हैं कि क्या आपको न्योता मिला है, तो फिर मैं कहता हूं कि हां मिला है.. तभी तो यहां आया हूं। इस मौके पर इकबाल ने पीएम मोदी को गमछा और रामचरितमानस भेंट किया। इकबाल अंसारी ने कहा कि अब यह विवाद समाप्त हो चुका है। अब हम सभी को एक नए दिशा की ओर कदम बढ़ाना है। आज का दिन बेहद ऐतिहासिक दिन है। उन्होंने कहा कि हिंदू -मुस्लिम एकता बड़ी चीज है। हम सभी मजहब का सम्मान करते हैं। अब इस पर राजनीति खत्म होनी चाहिए। वे कहते हैं कि जब गत वर्ष सुप्रीम कोर्ट में इस मसले को लेकर अपना फैसला सुनाया था तो देश के सभी मुस्लिमों ने इसका सम्मान किया था। ये भी पढ़े :भारत में राम मंदिर बनने से चिढ़ा पाकिस्तान, दे रहा है ऐसे आपत्तिजनक बयान