Saturday, January 23, 2021
Home देश हर मायनों में खास होगा हमारा नया संसद भवन, इस दिन प्रधानमंत्री...

हर मायनों में खास होगा हमारा नया संसद भवन, इस दिन प्रधानमंत्री मोदी करेंगे भूमि पूजन

काफी समय से नए संसद भवन को बनाए जाने की बात चल रही थी, लेकिन 10 दिसंबर को देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) इसका भूमि पूजन करेंगे। इस बात की जानकारी लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला (Om Birla) ने दी है। ओम बिरला प्रधानमंत्री के आवास भी पहुँचे थे उन्हें उद्घाटन का निमंत्रण देने। नए संसद की तस्वीर भी अब सामने आ गई है। अंग्रेजों द्वारा बनाया गया पुराना संसद भवन अब सिर्फ इतिहास में रह जाएगा। ओम बिरला ने इसकी जानकारी साझा करते हुए कहा कि भारत का लोकतंत्र और हमारी संसद समय की कसौटी पर खरे उतरे हैं तथा पहले से कहीं अधिक सुदृढ़ और मजबूत हुए हैं।

यह भी पढ़े- कुमारस्वामी का छलका दर्द, बीजेपी से दोस्ती रहती तो बना रहता CM, कांग्रेस ने कर दिया सब बर्बाद

ओम बिरला ने कहा कि नया संसद भवन भारत के लोकतंत्र की स्मारक होगा जो न केवल हमारे गौरवशाली इतिहास बल्कि भारतवासियों की शक्ति, विविधता और उद्यमिता का प्रतीक होगा। नया संसद भवन आत्मनिर्भर भारत का एक ऐसा मंदिर होगा जो राष्ट्र की विविधता को प्रतिबिंबित करेगा। नया संसद भवन नए संसद भवन का डिजाइन अहमदाबाद के मैसर्स एचसीपी डिजाइन एंड मेनेजमेट प्राइवेट लिमिटेड ने अगले 100 साल की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए तैयार किया है।  चूंकि नई दिल्ली और इसके आसपास के इलाके भूकंप क्षेत्र V में आते हैं, इसलिए नए भवन निर्धारित दिशानिर्देशों के अनुसार भूकंप से सुरक्षा के लिए पर्याप्त उपायों की व्यवस्था की जा रही है। बता दें कि, नया संसद भवन

नया संसद भवन पुराने संसद भवन से 17,000 वर्गमीटर बड़ा होगा। इसे 971 करोड़ रुपये की लागत से 64,500 वर्गमीटर क्षेत्र में बनाया जाएगा। टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड को नए संसद भवन के निर्माण का ठेका दिया गया है। इसका डिजाइन HCP डिजाइन, प्लानिंग एंड मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड ने तैयार किया है। नया संसद भवन नए संसद भवन में लोकसभा सदस्यों के लिए लगभग 888 सीटें और राज्यसभा सदस्यों के लिए 326 से अधिक सीटों का अरेंज किया जाएगा।  लोकसभा हॉल 1224 सदस्यों को एक साथ समायोजित करने में सक्षम होगा।

नए संसद में लोकसभा और राज्यसभा कक्षों के अलावा नए भवन में एक भव्य संविधान कक्ष होगा, जिसमें भारत की लोकतांत्रिक विरासत दर्शाने के लिए अन्य वस्तुओं के साथ-साथ संविधान की मूल प्रति, डिजिटल डिस्प्ले आदि होंगे। संविधान कक्ष में आगंतुकों को जाने की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी, नया संसद भवन ताकि वे संसदीय लोकतंत्र के रूप में भारत की यात्रा के बारे में जान सकें। नए संसद भवन में दोनों सत्र आजादी के 75 साल पूरे होने पर शुरू किया जाएगा। इन सभी बातों की जानकारी खुद लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने बताई है।

Most Popular