खरगोन हिंसा में एक शख्स की हुई मौत,सद्दाम पढ़ने गया नमाज हो गया था लापता, इंदौर के हॉस्पिटल में मिली लाश

रामनवमी के दिन शोभा यात्रा निकाली गई थी जिसमें कुछ लोगों ने पथराव करना शुरू कर दिया धीरे-धीरे इसी झगड़े ने हिंसा का रूप ले लिया और पूरे खरगोन में मातम पसर गया।

0
329
Khargone Violence

रामनवमी के दिन मध्य-प्रदेश के खरगोन में हुई हिंसा ने पूरे देश को हिला कर रख दिया है। इस हिंसा में एक की मौत हो चुकी है। जिससे परिवार वालों में मातम छाया हुआ है आपको बता दें मृतक का नाम इब्रिस उर्फ सद्दाम है जो हिंसा वाले दिन से लापता हो गया था जिसके परिवार वालों ने काफी खोजबीन की आपको बता दे सद्दाम के परिवार में उनकी मौत से कोहराम मचा हुआ है इस हिंसा ने किसी के परिवार का बेटा छीन लिया। सद्दाम का साग इंदौर के एमवाय हॉस्पिटल में मिला है। सद्दाम की उम्र लगभग 28 साल की है। आपको बता दें रामनवमी के दिन शोभा यात्रा निकाली गई थी जिसमें कुछ लोगों ने पथराव करना शुरू कर दिया धीरे-धीरे इसी झगड़े ने हिंसा का रूप ले लिया और पूरे खरगोन में मातम पसर गया।

निकला था मस्जिद में नमाज पढ़ने नहीं लौटा घर

आपको बता दें रामनवमी के दिन सद्दाम अपने घर से नमाज पढ़ने के लिए निकला था लेकिन वह वापस नहीं आया परिवार वालों ने कई दिनों तक खोजबीन की लेकिन उसका कुछ पता नहीं चला परिवार वालों ने थाने में रिपोर्ट भी दर्ज कराई। हर जगह उसे तलाशा गया। सद्दाम की मां तो अब यहां तक भी पूछना शुरू कर दिया था कि बता दो मेरा बेटा जिंदा है कि नहीं। उन्होंने कई पोस्टमार्टम रूम में जाकर भी ढूंढने की कोशिश की। लेकिन सद्दाम का कुछ नहीं पता चला। सद्दाम की मां को सद्दाम की मौत का बहुत बड़ा सदमा लगा है। मां ने बताया कि सद्दाम शादीशुदा है और उसके 2 महीने की छोटी सी बच्ची है ‌और उसकी बीवी और उसके बच्चे काफी परेशान हैं सद्दाम को ढूंढने की बहुत कोशिश कर रहे हैं। 17 अप्रैल को पुलिस ने रात को सूचना दी तो परिजन एमवाय हॉस्पिटल में पहुंचे तो वहां पर सद्दाम की लाश पड़ी थी जिसको देखकर परिवार वालों को गहरा सदमा लगा।

हिंसा में 148 आरोपियों पर मामला दर्ज

आपको बता दें रामनवमी के दिन खरगोन में हुई हिंसा को लेकर 148 लोगों पर रिपोर्ट दर्ज की गई है। पहले 21 लोगों पर रिपोर्ट दर्ज की गई थी फिर उसके बाद शिकायतकर्ता से कहने पर 44 प्राथमिक लोगों पर दर्ज की गई। 48 लोगों पर केस दर्ज किया गया है कुल 148 आरोपियों पर केस दर्ज किया गया है। आपको बता दें खरगोन में हुई हिंसा ने सबको हिला कर रख दिया है। आपको बता दें ऐसी हिंसा रामनवमी से लेकर हनुमान जयंती तक में 10 राज्यों में ऐसी हिंसा हुई है दिल्ली सहित झारखंड मध्य प्रदेश (खरगोन) जैसे राज्यों में ऐसी हिंसा हुई है।

इसे भी पढ़ें-क्या है वजह जो दिन पर दिन गिरती जा रही IPL की TRP, कहां हुई गलती?