अब LAC पर ड्रैगन को मिलेगा मुंहतोड़ जवाब, सेना प्रमुख नरवणे के बयान से सहमा चीन

130
mm naravane

पूर्वी लद्दाख में हालात काफी नाजुक बने हुए हैं, और ये बात किसी से छिपी नहीं है. इन दिनों चीन (China) की तरफ से लगातार सीमा पर छेड़खानी जारी रही है. जिसमें भारतीय सेनाओं ने चीनीयों को कामयाब तो नहीं होने दिया है. लेकिन सवाल ये उठता है कि आखिर चीन किस भाषा को समझना चाहता है. एक तरफ चीन दुनिया को दिखाने के लिए बयानबाजी करता है कि वो इस तनाव को शांत करवाना चाहता है. बातचीत के जरिए इसे सुलझाना चाहता है. लेकिन दूसरी तरफ वहां की सरकारी मीडिया खुलेआम भारत को 1962 जैसे युद्ध करने की धमकी देती है. डबल खेल खेल रहा चीन क्या करने के प्रयास में है ये तो कहना मुश्किल है लेकिन हाल ही में दो दिन के दौरे पर लद्दाख पहुंचे आर्मी चीफ एम एम नरवणे (MM Naravane in Ladakh) ने बड़ा बयान दिया है.

ये भी पढ़ें:- LAC पर भारत के पलटवार से कांपा ड्रैगन, अब चीन के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से करना चाहते हैं मुलाकात

दरअसल नरवणे ने चीन को करारा जवाब देते हुए साफ स्पष्ट कर दिया है कि वहां (LAC) हालात बेहद नाजुक हैं और ऐसे हालात में भारतीय जवान सभी प्रकार की स्थिति से निपटने के लिए बिल्कुल तैयार हैं. इसके साथ ही आर्मी चीफ ने अपने दिए हुए बयान में ये भी कहा है कि हमें इस बात की उम्मीद है कि इस समय सीमा पर जारी विवाद को बातचीत के जरिए सुलझाया जा सकता है. हालांकि सेना प्रमुख एमएण नरवणे ने ये बात भी साफ कर दी है कि सीमा पर जारी नाजुक हालात पर काबू पाने के लिए कई स्तर पर बातचीत की जा रही है. लेकिन इसी बीच अपनी सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए भारत ने बॉर्डर पर हर तरीके का कदम उठाया है.

इसी दौरान एमएम नरवणे ने कहा कि गुरुवार को ही वो लेह पहुंच गए थे. इसके बाद उन्होंने सीधा वहां पर तैनात ऑफिसर्स और जेसीओ से तनाव के बारे में चर्चा की. बातचीत में उन्हें इस बात का आभास हो गया कि इस समय देश के सभी जवानों का आत्मबल काफी ऊंचा है. साथ ही इस हालात में भी सैनिक हर एक मुसीबत से लड़ने के लिए तैयार बैठे हैं. इसके आगे उन्होंने ये बात फिर से दोहराई कि, ‘हमारे ऑफिसर्स, जवान दुनिया में सबसे बेहतर है. सिर्फ सेना नहीं बल्कि पूरे देश को इन पर गर्व है.’ आपको बता दें कि लद्दाख के पैंगोंग सीमा विवाद को निपटाने के लिए आज फिर से दोनों देशों के बीच पांचवी बैठक होगी और ये पूरा प्रयास होगा कि मसला बातचीत के माध्यम से निपट जाए.

ये भी पढ़ें:- चीन के खिलाफ भारत की बड़ी तैयारी, LAC पर तैनात हो रहे हैं ऐसे खतरनाक हथियार