चीन से तनाव के बीच 2 पावरफुल हथियारों के परीक्षण में जुटी नौसेना, खासियत जान कांप उठेगा ड्रैगन

969
Indian Navy

चीन (China) से जारी तनाव के बीच भारत (India) लगातार अपनी सैन्य ताकत मजबूत करने की दिशा में कदम बढ़ा रहा है. हाल ही में चीन के सैनिकों की जो तस्वीर सामने आई है उससे सीमा पर हो रही गतिविधियों की पोल पूरी दुनिया के सामने खुल गई है. अभी तक चीन की तरफ से ये बयान दिया जा रहा था कि उसकी तरफ से तब गोलीबारी की गई जब भारतीय सैनिकों ने उन्हें उकसाया जबकि तस्वीर कुछ और ही कहानी बयां कर रही है. साथ ही ये भी स्पष्ट हो गया है कि चीन किस फिराक में हैं.

ये भी पढ़ें:- खतरनाक मंसूबों के साथ भारतीय ठिकाने पर आने की फिराक में चीनी सैनिक, LAC पर हुई ताबड़तोड़ फायरिंग

हालांकि इस तनाव के बीच भारतीय सेना (Indian Army) सीमा पर और भी ज्यादा मुस्तैद हो गई है. इसके साथ ही देश के तीनों अंग भी लगातार इस मामले पर अपनी नजरें गड़ाए हुए हैं, और अपने आपको मजबूत करने के लिए हर दिशा में तेजी से काम कर रहे हैं. इसी सिलसिले में भारतीय नौसेना (Indian Navy) भी अपनी ताकत को और ज्यादा मजबूत करने के लिए तैयारी कर रही है. जी हां नौसेना 10 सितंबर, दिन गुरुवार को गोवा में होने जा रही ड्रिल में दो शक्तिशाली हथियारों का टेस्ट करने वाली है. बता दें कि ये हथियार काफी ज्यादा खतरनाक और शक्तिशाली हैं, इसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि परीक्षण से पहले ही नौसेना की ओर समुद्री इलाके के मछुआरों और नौकाओं को यहां से दूर रहने के लिए कहा गया है.

जानकारी के मुताबिक भारतीय नौसेना गोवा के समुद्री इलाके में 105 मिमी लाइट फील्ड गन और 40/40 एंटीएयरक्राफ्ट गन का टेस्ट करेगी. दरअसल नौसेना इन दोनों हथियारों का परीक्षण गोवा के मोरमुगाओ और हेडलेंड साडा में करने वाली है. खबरों की माने तो इन हथियारों की फायरिंग ड्रिल सुबह 9 बजे से शुरू होगी और दोपहर 1 बजे तक चलती रहेगी. इतना ही नहीं बल्कि डेंजर जोन तैयार किया गया है, वो मोरमुगाओ हेडलैंड फ्लैग स्टाफ के मौजूदा हालात से 220 से 260 डिग्री की दूरी पर है. जबकि समुद्र में ये 15 मील की दूरी और 7100 मीटर की ऊंचाई तक स्थित है.

यही कारण है कि नौसेना ने इन दोनों शक्तिशाली हथियारों की टेस्टिंग से पहले ही मछुआरों, बंदरगाहों, समुद्री परिवहन करने वालों और मछली पकड़ने वाले के साथ ही जहाजों को भी इस डेंजर जोन से दूरी बनाए रखने की साफ चेतावनी दी है. बताया जा रहा है कि जिन हथियारों का परीक्षण नौसेना गुरुवार को कर रही है वो फील्ड गन बोफोर्स तोप का मिनी वर्जन है. इस 105 फील्डर गन का वजन 3400 किग्रा है. खास बात तो ये है कि इस हथियार से निकला गोला 11 किमी दूर स्थित दुश्मन को भी तहस-नहस कर देता है. इसके साथ ही बात करें एंटीएयरक्राफ्ट गन की तो इसे एक मिनट के अंदर 240 से 330 गोले दागने की महारथ हासिल है. और तो और सबसे बड़ी बात तो ये है कि ये हथियार हवा में ही विमानों को नष्ट करने की क्षमता रखती है और इसका निशाना बिल्कुल सटीक लगता है.

ये भी पढ़ें:- LAC पर फिर घुसपैठ के इरादे से चीन, PLA के जवानों का भारतीय सेना से हुआ आमना-सामना