Homeटेकनासा ने जारी किया मंगल की आवाज, हवा चलने जैसी मिल रही...

नासा ने जारी किया मंगल की आवाज, हवा चलने जैसी मिल रही है सनसनाहट

- Advertisement -

दिल्ली। नेशनल एरोनॉटिक्स स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन नासा ने मंगल के जेजेरो क्रेटर पर पर्सीवरेंस मार्स रोवर द्वारा रिकार्ड की गई आवाज को जारी किया है। नासा ने जो आवाज मंगल ग्रह की जारी किया है उसमें हवाओं की आवाज सुनाई दे रही है। नासा ने बताया है कि यान में लगे कैमरे में मंगल ग्रह पर चलने वाली हवाओं की आवाज सुनाई दे रही है। माइक्रोफोन ने लेजर स्ट्राइक्स की आवाज को रिकॉर्ड किया है। नासा के साउंडक्लाउड पेज पर पोस्ट की गई ऑडियो क्लिप को सुपरसेंसर रोवर पर लगे सुपरकैम के माइक्रोफोन ने रिकॉर्ड किया है। मंगल ग्रह पर लेजर शॉट्स की ध्वनि रिकॉर्डिंग स्नैप की तरह है। इसमें से प्यू-प्यू आवाज आ रही है जैसे फिल्मों में सुनाई देती है। नासा के इस रिकार्डेड आवाज में लेजरों के चट्टान से टकराने के चलते आ रही हैं। इन आवाजों के जरिये नासा की टीम यह पता लगा सकती है कि रोवर के आसपास की चट्टानों की बनावट की संरचना कैसी है।

यह भी पढ़ेंः-नासा के मंगल रोवर को लंदन के एक कमरे से ऑपरेट कर रहे हैं भारतीय मूल के ब्रिटिश भूवैज्ञानिक

नासा का कहना है कि रोवर द्वारा भेजी गईं रिकॉर्डिंग अद्भूत है। इस रिकार्डिंग से मंगल के बारे में कुछ नई जानकारी हासिल करने में मदद मिलेगी। नासा के अनुसार पर्सीवरेंस मार्स रोवर लगातार काम कर रहा है और आगे भी महत्वपूर्ण जानकारी मिलती रहेंगी। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी ने दो और रिकार्डिंग साझा की है जिसमें हवाओं के चलने जैसी आवाज आ रही है। मंगल पर वायुमंडलीय दबाव के कारण इन हवाओं की आवाज पृथ्वी से बहुत अलग है। ऐसा लग रहा है जैसे समुद्र के अंदर जाकर किसी ने इन आवाजों को रिकॉर्ड किया है।

ज्ञात हो कि पर्सीवरेंस में 23 कैमरे और 2 माइक्रोफोन लगे हैं। इसके मास्ट में लगा मास्टकैम ऐसे टार्गेट्स पर जूम करेगा जहां वैज्ञानिक दृष्टिकोण से रोचक खोज की संभावना हो। पर्सीवरेंस मार्स रोवर ने लाल ग्रह पर पहली बार परीक्षण के तौर अपना अभियान 6 मार्च को शुरू किया था। लगभग 6.5 मीटर की दूरी तय की गई थी और अपने मूवमेंट की तस्वीरें भी धरती पर भेजी थी।

यह भी पढ़ेंः-नासा के मंगल मिशन में यह है स्वाति मोहन का योगदान

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here