Pm modi 1

दिल्ली। कोरोना वायरस संकट को लेकर शुक्रवार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तमिलनाडु, ओडिशा, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्रियों के साथ मंत्रणा किया। इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सभी राज्य सरकारों ने इस संकट के समय में एक-दूसरे से सीखने का प्रयास किया है। उन्होंने कहा कि हम इस समय ऐसे मोड़ पर हैं, जहां तीसरी लहर की आशंका बनी हुई है। कुछ राज्यों में कोरोना के मामलों के बढ़ते जा रहे हैं जो चिंता का विषय हैं। पीएम मोदी ने कहा कि पिछले एक हफ्ते के करीब 80 फीसदी कोरोना के मामले इन्हीं 6 राज्यों से हैं। पीएम मोदी ने कहा कि महाराष्ट्र, केरल में बढ़ते मामले चिंता का विषय हैं। उन्होंने कहा कि ये सब दूसरी लहर के पहले वाले लक्षण हैं। ऐसे में एक बार फिर टेस्ट, ट्रैक और टीका के रणनीति पर आगे बढ़ना होगा। सुरक्षा ही बचाव है।

यूरोप में कोरोना के बढ़ते मामले चिंता का विषय
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बैठक के दौरान कहा कि जहां संक्रमण ज्यादा है, वहां वैक्सीनेशन काफी अहम है। उन्होंने कहा कि टेस्टिंग में सबसे अधिक आरटीपीसीआर तकनीक पर जोर देना चाहिए। सभी राज्यों में आईसीयू बेड्स, टेस्टिंग क्षमता बढ़ाने के लिए फंड दिया जा रहा है। केंद्र ने 23 हजार करोड़ का फंड दिया है। इसका कोरोना और स्वास्थ्य सेवाओं के लिए इस्तेमाल किया जाना चाहिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि बच्चों को कोरोना से बचाने के लिए पूरी तैयारी रणनीति के साथ करना होगा। पिछले दो हफ्तों में यूरोप के देशों में कोरोना बढ़ रहे हैं। अमेरिका में भी केस बढ़ रहे हैं। यूरोप में मामले बढ़ना हमारे लिए चेतावनी है।

पीएम मोदी ने कहा कि सार्वजनिक जगहों पर भीड़ लगने से रोकना होगा। कोरोना वायरस की तीसरी लहर की आशंकाओं के बीच हाल ही के दिनों में यह नरेंद्र मोदी की दूसरी बड़ी बैठक है। कुछ दिन पहले ही पीएम मोदी ने पूर्वोत्तर राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ मीटिंग की थी। ज्ञात हो कि देश में अभी भी कोरोना के करीब साढ़े चार लाख सक्रिय मामले हैं। केरल और महाराष्ट्र ऐसे राज्य हैं, जहां सबसे अधिक सक्रिय मामले हैं। दोनों ही राज्यों में एक-एक लाख से अधिक एक्टिव केस हैं। इनके अलावा कर्नाटक, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश भी उन राज्यों में शामिल हैं, जहां कोविड चिंता बढ़ा रहा है।

यह भी पढ़ेंः-पीएम मोदी की 6 राज्यों के सीएम के साथ वर्चुअल बैठक, कोरोना की तीसरी लहर को लेकर करेंगे चर्चा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here