मोदी सरकार ने किसानों को दिया बड़ा झटका, अब 7 दिन के अंदर वापस करना होगा बैंक से लिया हुआ लोन!

1921
Modi Govt-Kisaan

कोरोना कहर के बीच किसानों (farmers ) के लिए एक बड़ी खबर सामने आ रही है. जो आफत के साथ हैरानी वाली भी है. ये खबर उन किसानों के लिए जान लेना बेहद जरूरी है जिनकी ओर से खेती करने के लिए के लिए बैंक से लोन (Bank Loan) लिया गया है. ऐसे में यदि ये किसान आने वाले 7 दिनों के अंदर क्रेडिट कार्ड (KCC-Kisan Credit Card) पर लिए गए सारे लोन को चुक्ता नहीं कर देते हैं तो इन्हें 4 के बजाय 7 फीसदी ब्याज भरना पड़ेगा. खबर है कि खेती-किसानी को लेकर दिए गए लोन को मोदी सरकार (Modi Government) ने 31 अगस्त तक किसानों को वापस करने का वक्त दिया है.

ये भी पढ़ें:- खुशखबरी: गन्ना किसानों के लिए मोदी सरकार ने लिया बड़ा फैसला, FRP बढ़ाने की दी मंजूरी

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जब कोई किसान केसीसी पर लोन लेता है तो उसे 31 मार्च तक जमा करने का समय दिया जाता है. ऐसे में आने वाले साल में किसान (Farmer) को आसानी से लोन पर पैसा मिल जाता है. वैसे समझदारी से काम लेने वाले किसान लिए हुए लोन का भुगतान समय पर ही कर देते हैं. इससे उन्हें ब्याज भी नहीं भरना पड़ता है. साथ ही बैंक की नजर में उनके नाम का रिकॉर्ड भी सही रहता है. ऐसे में उन्हें आगे खेती करने के लिए पैसे की कोई दिक्कत भी नहीं होती है. लेकिन जिन किसानों ने अब तक लोग नहीं भरा है उन्हें और छूट दिया जाना संभव नहीं है. क्योंकि सरकार की ओर से लगाया गया लॉकडाउन भी समाप्त हो चुका है और कृषि से जुड़ी गतिविधियां भी धीरे-धीरे पटरी पर लौट रही हैं.

हालांकि लॉकडाउन के दौरान सरकार ने हालात को ध्यान में रखते हुए लोन भरने की आखिरी तारीख 31 मार्च से बढ़ाकर 31 मई तक कर दिया था. इसके बाद भी स्थिति को बिगड़ता देख सरकार ने इस डेट को आगे बढ़ाकर 31 अगस्त कर दिया था. ऐसे में जाहिर सी बात है कि किसानों ने केसीसी कार्ड पर जो पैसा लिया है उसका ब्याज केवल 4 प्रतिशत प्रति वर्ष के पुराने रेट पर 31 अगस्त तक ही भुगतान कर सकते हैं. लेकिन इसके बाद भी लेट हुआ तो ब्याज दर महंगी हो जाएगी. जो किसानों पर भी भारी पड़ेगा. आपको बता दें कि आमतौर पर बैंक की तरफ से किसानों को पहले से ही ये जानकारी दे दी जाती है कि 31 मार्च तक कर्ज चुकाने की आखिरी तारीख है. ऐसे में यदि किसान इस समय तक पैसा नहीं चुका पाते हैं तो उन्हें 7 फीसदी तक ब्याज देना पड़ता है. फिलहाल ये खबर किसानों के लिएॆ किसी बड़ झटके से कम नहीं है.

ये भी पढ़ें:- पीएम किसान योजना: अगर खाते में नहीं आए छठी किस्त के पैसे, तो जल्दी करें ये काम