भ्रष्ट अधिकारियों पर लगाम कसने की तैयारी में जुटी मोदी सरकार, बनाया ये प्लान!

141

केंद्र की मोदी सरकार अब डिपार्टमेंट के ऐसे अधिकारियों पर नकेल कसने की तैयारी कर रही है, जो भ्रष्टाचार में लिप्त हैं। कहा जा रहा है कि केंद्र सरकार ने भ्रष्ट और अयोग्य कर्मचारियों की पहचान करने के निर्देश भी जारी कर दिए हैं। इसके साथ ही मोदी सरकार कर्मचारियों को रिटायर करने पर पूरा जोर दे रही है। बताया जा रहा है कि भ्रष्ट अधिकारियों को पहचानने के लिए उनके पुराने रिकॉर्ड को खंगाला जाएगा। जांच रिुकॉर्ड में अगर कोई अधिकारी भ्रष्टाचार में लिप्त पाया जाता है तो उसे तत्काल नौकरी छोड़ने के लिए कहा जा सकता है। इसको लेकर मोदी सरकार ने एक रजिस्टर भी तैयार करने के लिए कहा गया है। जिनमें सभी सरकारी कर्मचारियों का रिकॉर्ड दर्ज किया जाएगा।

ये भी पढ़ें:-केंद्र सरकार की इस योजना से युवाओं का होगा सपना साकार, नौकरी के लिए नहीं करनी होगी भागदौड़

सूत्रों के अनुसार केंद्र सरकार के इस फैसले के तहत सरकारी सेवा में 30 साल पूरे कर चुके या 50-55 साल की उम्र के कर्मचारियों की सेवा रिकॉर्ड की जांच की जाएगी। केंद्र सरकार का कहना है कि सर्विस रिकॉर्ड जांच के बाद तय किया जाएगा कि वो सही से काम कर रहे हैं या उन्हें लोकहित में समय से पहले रिटायर किया जाए.

वहीं कार्मिक मंत्रालय ने सभी सचिवों से कहा कि इसके लिए एक रजिस्टर तैयार करे, जिसमें यह सारी जानकारी दर्ज की जाए। हालांकि इन रिकॉर्ड के आधार पर कोई भी कर्मचारी भ्रष्टाचार में लिप्त पाया जाता है, तो उसे तुरंत सेवानिवृत के लिए कहा जा सकता है।

मालूम हो कि मोदी सरकार शुरू से ही भ्रष्टाचार के सख्त खिलाफ रही है, भ्रष्टाचार को रोकने के लिए केंद्र ने देश में नोटबंदी जैसा फैसला भी लिया था, जिससे करोड़ो-अरबों रुपए की ब्लैकमनी जब्त की गई थी। वहीं सरकार अब डिपार्टमेंट में कार्यरत भ्रष्ट्र अधिकारियों पर लगाम कसने की तैयारी में जुटी हुई है।

ये भी पढ़ें:-काला धन रखने वालों पर अब होगी ये धमाकेदार कार्रवाई, मोदी सरकार ने किया बड़ा ऐलान