बांग्लादेश(Bangladesh)। बांग्लादेश में आज शुक्रवार को भीषण हादसा हो गया। वहां की एक फैक्ट्री में भयंकर आग लग गई, जिसमें 52 झुलस गए और उनकी मौत हो गई। वहीं 30 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। समाचार एजेंसी एएफपी ने बताया कि आग इतनी भयानक थी कि कई मजदूर अपनी जान बचाने के लिए ऊपरी मंजिल से नीचे कूद गए। बताया गया है कि दर्जनों लोग अभी भी लापता हैं। वहीं मजदूरों के रिश्तेदारों में हड़कंप मच गया। इस फैक्ट्री में नूडल्स, फ्रूट जूस और कैंडी बनाई जाती है।

1 हजार से ज्यादा लोग थे मौजूद

बता दें कि जिस वक्त यह आग लगी उस वक्त फैक्ट्री में 1000 से ज्यादा कर्मचारी काम कर रहे थे। हालांकि आग लगने के बाद इनमें से अधिकांश लौट गए। रात में मरने वालों की संख्या तीन बताई गई थी। लेकिन जैसे ही बचावकर्मी तीसरी मंजिल पर पहुंचे अचानक से मृतकों की संख्या बढ़ने लगी। तीसरे तल पर बचावकर्मियों को 49 कर्मचारियों के शव मिले।

फायर सर्विस के प्रवक्ता देबाशीष बर्धन के मुताबिक सीढ़ी पर लगे एग्जिट डोर बंद थे। इस वजह से कर्मचारी छतों की तरफ नहीं भाग सके। जिससे उनकी मौत हो गई।

लोगों ने किया विरोध

वहीं इस हादसे में मरे लोगों को एंबुलेंस के जरिए मर्चरी ले जाया गया। वहीं इस बीच गली में खड़े लोगों ने नारेबाजी की और रास्ता भी रोकने का प्रयास किया। कुछ लोगों ने पुलिस से झड़प करने की कोशिश भी की। उन्हें हटाने के लिए पुलिस को बल प्रयोग भी करना पड़ा। फायर सर्विस के प्रवक्ता देबाशीष बर्धन ने कहा कि आग पर काबू पाने के बाद, हम अंदर खोज और बचाव अभियान चलाएंगे। तभी हम किसी और के हताहत होने की पुष्टि कर सकते हैं।

नहीं बढ़ाई गई सुरक्षा

ढाका फायर चीफ दीनू मोनी शर्मा ने बताया कि तीव्र ज्वलनशील केमिकल्स और प्लास्टिक भारी मात्रा में अंदर रखा गया था। इसके चलते ही फैक्ट्री में आग लगी। आग से बचने वाले फैक्ट्री के कर्मचारी मोहम्मद सैफुल ने कहा कि आग लगने के समय अंदर दर्जनों लोग थे। एक दूसरे कार्यकर्ता मामून ने कहा कि भूतल पर आग लगने और पूरे कारखाने में काले धुएं के कारण वह और 13 अन्य कर्मचारी छत पर भाग गए थे। घटनास्थल पर मौजूद कुछ अन्य कर्मचारियों ने बताया कि बीते वर्षों में फैक्ट्री में छोटी—छोटी आग लगने की घटनाएं होती रही हैं। इसके बावजूद सुरक्षा नहीं बढ़ाई गई। इमरजेंसी में फैक्ट्री से बचकर निकलने के लिए केवल दो सीढ़ियां हैं।

इससे पहले भी हो चुके है हादसे

बता दें कि इससे पहले भी बांग्लादेश में 2013 में राणा प्लाजा में हुई घटना में 1100 से अधिक लोग मारे गए थे। इसी तरह फरवरी 2019 में ढाका के एक अपार्टमेंट लगी आग में कम से कम 70 लोगों ने अपनी जान गंवा दी थी।

इसे भी पढ़ें-बॉलीवुड के इन सेलेब्स ने हाल ही में खरीदी लग्जरी कारें, कीमत जानकर हो जाएंगे हैरान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here