Homeदेशनक्सलियों ने CRPF जवान राकेश्वर सिंह मन्हास को किया रिहा, परिवार में...

नक्सलियों ने CRPF जवान राकेश्वर सिंह मन्हास को किया रिहा, परिवार में दोड़ी खुशी की लहर

- Advertisement -

जम्मू के रहने वाले राकेश्वर सिंह मन्हास को नक्सलियों ने अपनी कैद से रिहा कर दिया है। बता दें कि नक्सलियों ने मुठभेड़ के दौरान जवान को अगवा कर लिया था। नक्सलियों से मुक्त होने के बाद जवान के घरवालों में खुशी की लहर दौड़ गयी। उनके परिवार की पहली प्रतिक्रिया सामने आई है। उनकी पत्नी ने कहा कि आज उनके लिए बहुत खुशी का दिन है। मीडिया का इसमें काफी सहयोग मिला है। राकेश्वर सिंह को जंगल के रास्ते वापस लाया जा रहा है। सबसे पहले राकेश्वर सिंह की जांच होगी, जिसके बाद उन्हें घर तक पहुंचाया जाएगा। बीते दिनों कोबरा कमांडो राकेश्वर सिंह मन्हास की सोशल मीडिया पर फोटो जारी की गयी थी। इसमें नक्सलियों ने एक बयान जारी कर यह कहा था कि तीन अप्रैल से लापता कोबरा जवान उनकी गिरफ्त में है।

इसे भी पढ़ें:- सनी लियोनी ने मुम्बई में खरीदा शानदार आशियाना, 12वीं मंजिल के इस फ्लैट की यह है कीमत

सोशल मीडिया में छाई थी जवान की तस्वीर

बीते दिन लापता जवान की तस्वीर सोशल मीडिया पर जारी होने से पहले, बीजापुर के एक पत्रकार ने दावा किया कि उसके पास नक्सलियों ने दो बार कॉल किया। नक्सलियों ने बताया है कि जवान घायल है। उस जवान को गोली लगी है। उसे दो दिन में रिहा कर दिया जाएगा। बीजापुर में एनकाउंटर के बाद लापता कोबरा कमांडो की लगातार तलाश जारी थी।  नक्सलियों ने पत्र जारी करके सरकार से बातचीत के लिए सहमति जाहिर की थी।

ज्ञात हो कि 3 अप्रैल को हुई मुठभेड़ में 22 जवान शहीद हो गए थे और 31 घायलों का उपचार हो रहा है। एनकाउंटर के दिन से ही सीआरपीएफ की कोबरा बटालियन का एक जवान राकेश्वर सिंह मन्हास लापता थे। नक्सलियों ने पत्र लिखकर यह भी बताया था कि जवान उनकी गिरफ्त में है। नक्सलियों ने यह शर्त भी रखी थी कि सरकार एक मध्यस्थ नियुक्त करे, जिसके बाद जवान को वे रिहा किया जाएगा। अब नक्सलियों ने अपना वादा पूरा कर दिया है।

इसे भी पढ़ें:- काशी विश्वनाथ के ज्ञानवापी परिसर को लेकर फास्ट ट्रैक कोर्ट ने दिया बड़ा फैसला

 

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here