Friday, December 3, 2021

गलवान के वीर कर्नल संतोष बाबू को महावीर चक्र, चीनी सैनिकों को ऐसे दिया था जवाब

Must read

- Advertisement -

दिल्ली। पूर्वी लद्दाख की बर्फीली गलवान घाटी में चीनी सैनिकों से झड़प के दौरान सर्वोच्च बलिदान देने वाले कर्नल संतोष बाबू को महावीर चक्र से सम्मानित किया गया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सोमवार को कर्नल संतोष बाबू को मरणोपरांत यह सम्मान प्रदान किया। कर्नल संतोष बाबू की मां और पत्नी ने महावीर चक्र सम्मान ग्रहण किया। गत वर्ष 15 जून की रात को कर्नल संतोष बाबू गलवान घाटी में चीनी सैनिकों से झड़प के दौरान शहीद हो गए थे। चीनी सैनिकों ने गलवान में घुसपैठ करने की कोशिश की थी। कर्नल संतोष बाबू गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों की टुकड़ी का नेतृत्व कर रहे थे। चीनी सैनिकों ने घुसपैठ की साजिश की थी, जिसका भारतीय सैनिकों की ओर से विरोध किया गया। चीनी सैनिकों को खदेड़ दिया गया।

- Advertisement -

 colonel santosh babu

इस दौरान कर्नल संतोष बाबू के नेतृत्व में भारतीय सैनिकों ने चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी का विरोध किया। कर्नल संतोष बाबू ने कहा कि वे अपने इलाके में चले जाएं। पूरी विनम्रता के साथ कर्नल संतोष बाबू ने चीनी सैनिकों को समझाया लेकिन अपनी जमीन से एक इंच पीछे नहीं हटे। चीनी सैनिकों ने साजिश करते हुए पत्थरबाजी शुरू कर दी लेकिन उसके आगे भी कर्नल संतोष डटे रहे। कर्नल संतोष की टुकड़ी ने चीनी सैनिकों को पीछे हटने पर मजबूर दिया था। इस झड़प में भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए थे। कई मीडिया रिपोर्ट्स में चीन के भी करीब 40 सैनिकों के मारे जाने की बात सामने आई थी। हालांकि चीन ने 4 से 5 सैनिकों के ही मारे जाने की पुष्टि की थी। चीन सच बताने की स्थिति में नहीं था। भारतीय सैनिकों ने उनका कड़ा जवाब दिया था।

इसी साल जून में गलवान घाटी में हुई झड़प के एक साल पूरा होने के मौके पर तेलंगाना सरकार ने कर्नल संतोष बाबू के नाम पर स्मारक बनवाने का भी ऐलान किया था। कर्नल संतोष बाबू तेलंगाना के ही सूर्यपेट के रहने वाले थे, जो राजधानी हैदराबाद से 140 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। कर्नल बाबू गलवान घाटी में तैनात 16 बिहार रेजिमेंट के कमांडिंग ऑफिसर के तौर पर जिम्मेदारी संभाल रहे थे। 16 बिहार रेजिमेंट के 20 जवानों ने गलवान घाटी में सीमा की रक्षा करते हुए सर्वोच्च बलिदान दिया था। तेलंगाना सरकार की ओर से कर्नल संतोष बाबू के परिजनों को 5 करोड़ रुपये की सहायता राशि दी गई थी। इसके अलावा उनकी पत्नी को ग्रुप 1 की सरकारी नौकरी का भी ऐलान किया गया था।

यह भी पढ़ेंःबेखौफ होकर चीन से लोहा लिया था संतोष बाबू ने, अब देश के लिए शहीद होने पर माता-पिता ने कही ये बात

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article