18 साल की हो चुकी है आपकी बेटी तो उसे मिलेंगे 1 लाख रूपए, ऐसे उठाएं इस योजना का लाभ

126

बेटियों को उत्थान करने की दिशा में सरकार हर वो कदम उठा रही है, जो बेटियों के लिए लाभदायक साबित हो सके। इस बीच अब मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार ने अपने प्रदेश की बेटियों को 18 साल का पूरा होने के बाद 1 लाख रूपए देने की घोषणा की है। सरकार द्वारा जारी किए गए इस  योजना का नाम लाड़ली लक्ष्मी योजना है। इस योजना का लाभ आप भी उठा सकते हैं। इसी योजना के तहत अगर आपकी बेटी 18 वर्ष की हो चुकी है तो उसे 1 लाख रूपए दिया जाएगा। शिवराज सिंह सरकार ने इस योजना का लाभ अभी अपने ही प्रदेश की बेटियों के लिए लागू किया है। ये भी पढ़े :खतरे में बेटियां..2030 में 68 लाख बेटियों को गर्भ में ही मार दिया जाएगा..सामने आई ये रिपोर्ट 

ऐसे उठाएं फायदा 

अगर आपको शिवराज सिंह सरकार की लाड़ली लक्ष्मी योजना का लाभ उठाना है तो इसके लिए आपको कुछ शर्तों का पालन करना होगा। बता देंं कि इस योजना के तहत बेटियों के जन्म पर सरकार प्रत्येक वर्ष 6 हजार रूपए का बचत प्रमाणपत्र खरीदेगी। इसके बाद इसको समय-समय पर नवीनीकृत किया जाएगा। इसके बाद जब बेटी 6वीं कक्षा में चली जाएगी तो 2 हजार और 9वीं कक्षा में प्रवेश करने पर 4 हजार रूपए का भुगतान किया जाएगा। इसके बाद 11वीं कक्षा में प्रवेश होने पर 7, 500 रूपए का भुगतान किया जाएगा। माध्यमिक शिक्षा के दौरान बेटियों को प्रतिमाह 2 हजार रूपए दिए जाएंगे। इसके बाद जब बेटी की उम्र 21 वर्ष की हो जाएगी तो फिर 1 लाख रूपए दिए जाएंगे.. यह रकम उसके शादी के लिए होगी।

मोदी सरकार भी हुई प्रभावित 

मध्यप्रदेश की शिवराज सिंह चौहान की सरकार की इस योजना से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार भी खासा प्रभावित हुई है। मोदी सरकार ने भी इस योजना की खूब तारीफ की है, मगर जब प्रदेश में सत्ता परिवर्तन हुआ और प्रदेश में बीजेपी से कांग्रेस की सरकार आई तो फिर इस योजना पर कुछ खास ध्यान नहीं दिया गया, लेकिन फिर कमलनाथ  की सरकार जाने के बाद इस योजना पर फिर से ध्यान दिया जा रहा है। सरकार का कहना है कि इस योजना का प्रदेश की बेटियों को व्यापक स्तर पर लाभ मिलेगा। बताते चले कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार आते ही भाजपा की सभी योजनाओं को बंद करा दिया गया था, जिसे बाद में फिर से चालू करवा दिया गया है। ये भी पढ़े :UP: चाय बेचने वाले की बेटी को अमेरिका से मिली थी 4 करोड़ की स्कॉलरशिप, अब मनचलों ने ले ली जान