इन चेहरों को मिल सकती है शिवराज मंत्रिमंडल में जगह..दो घंटे तक हुई मामा की शाह के साथ मुलाकात

0
328

कोरोना वायरस (Coronavirus) के खौफ के बीच ही मध्यप्रदेश (madhya pardesh) में बीजेपी (BJP) के नेतृत्व में शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) की सरकार (Govt) का गठन हुआ था। अभी तक मुख्यमंत्री (CM) का पद ग्रहण करने के बाद भी मंत्रिमंडल (Cabinet) का विस्तार नहीं हो पाया है। बहरहाल, अब इस दिशा में तेजी आ चुकी है। मध्यप्रदेश BJP इकाई अब तेजी से इस दिशा में कदम बढ़ा रही है। वहीं इस दौरान किन-किन चेहरों को मंत्रिमंडल में जगह मिल सकती है। इसे लेकर कयासों का दौर भी जारी है। फिलहाल दिल्ली में तो इसे लेकर बैठकों का दौर शुरू हो चुका है। मंत्रिमंडल गठन को लेकर ही बीते रविवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, जेपी नड्डा और आखिर में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी।

ये भी पढ़े :कांग्रेस के इस विधायक ने किया ऐसा ट्वीट, शिवराज सिंह चौहान ने सोनिया गांधी से की माफी की मांग  

ऐसा बताया जा रहा है कि इस संदर्भ में शिवराज सिंह चौहान की अमित शाह (Amit shah) से करीब 2 घंटे तक मुलाकात हुई है। जिसमें दोनों के बीच इन किन-किन मसलों को वार्ता का दौर चला है। फिलहाल यह बात अभी तक सामने नहीं आई है। मगर हां..कयासों को हवा जरूर लगी है। इस दौरान BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (jP Nadda) और मध्यप्रदेश के प्रभारी  विनय सहस्त्रबुद्धे दिल्ली में मौजूद हैं।

वहीं हम आपको बताते चले कि मंत्रिमंडल में शामिल होने वाले चेहरों पर अब अंतिम मुहर लग चुकी है। अंतिम मुहर लगने के बाद वे वापस भोपाल लौटेंगे और माना जा रहा है कि आगामी 30 जून को मंत्रिमंडल को विस्तार मिल सकता है। इसके साथ ही राज्यपाल लाल जी टंडन के अस्वस्थ्य होने की वजह से शपथ ग्रहण की रुकावट भी दूर हो गई है । वहीं अब उत्तर प्रदेश के राज्यपाल आनंदीबेन पटेल को मध्य प्रदेश का प्रभारी राज्यपाल बना दिया गया है। अब ऐसे में माना जा रहा है कि अब मंत्रिमंडल विस्तार का रास्ता साफ हो चुका है। इसके साथ ही हम आपको उन नामों से रूबरू कराए चलते हैं, जिन नामों को प्रदेश के मंत्रिमंडल में शामिल कराने को लेकर चर्चा अपने चरम पर पहुंच चुकी है।

शिवराज मंत्रिमंडल में शामिल होने वाले चेहरों के नाम… 
रामेश्वर शर्मा सबसे आगे विकल्प के रूप में विश्वास सारंग और एससी कोटे से विष्णु खत्री। रामपाल सिंह, उषा ठाकुर,  मालिनी गौड़,  मोहन यादव, चेतन कश्यप, यशपाल सिंह सिसोदिया, विजय शाह या प्रेम सिंह पटेल,  अरविंद भदौरिया, यशोधरा राजे सिंधिया, गोपाल भार्गव, भूपेंद्र सिंह, राजेंद्र शुक्ला या गिरीश गौतम ,  शरदेंदु तिवारी,  रामलल्लू वेश्य,कुंवर सिंह टेकाम, अशोक रोहाणी या अजय विश्नोई, संजय पाठक, गौरीशंकर बिसेन, एसटी कोटे से देवी सिंह सैयाम,प्रद्युम्न सिंह तोमर, इमरती देवी, महेंद्र सिसोदिया, प्रभुराम चौधरी, राज्यवर्द्धन दत्तिगांव, एदल सिंह कंसाना, बिसाहू लाल सिंह… बताते चले कि ये वो नाम हैं, जिन पर चर्चा अपने चरम पर है। फिलहाल इन नामों को लेकर अंतिम तौर पर कुछ भी कहना मुश्किल है। इसकी अंतिम तस्वीर तो 30 जून के बाद साफ हो पाएगी।

ये भी पढ़े :शिवराज सिंह चौहान के मंत्रिमंडल के विस्तार के बाद, अपने विरोधियों के निशाने पर आए सिंधिया