MP: तीन महीने पूर्ण होने के बाद भी नहीं हुआ शिवराज मंत्रिमंडल का पूरा विस्तार?, जानें बड़ी वजह!

0
165
sivraj

देश में जब से कोरोना महामारी अपने चरम पर पहुंच चुकी है, कुछ भी काम ठीक नहीं हो रहे हैं, चाहें व आम जनता की बात हो या फिर राजनेताओं की?. हर कोई इस महामारी का दंश झेलने को मजबूर है, लेकिन इस बीच राजनीतिक दलों में सियासत अपने चरम पर है, यहां कोरोना से नहीं बल्कि हर किसी की कुर्सी को खतरा है?. ऐसे में मध्यप्रदेश के ‘मामा’ शिवराज की सरकार को 3 महीने पूर्ण होने जा रहे हैं लेकिन अभी भी मंत्रिमंडल का पूरा विस्तार नहीं हो पाया है. क्या वजह है कि शिवराज सिंह चौहान मंत्रिमंडल का विस्तार नहीं कर पा रहे?. क्या फिर से कोई संकट मंडरा रहा है? जिस कारण देरी हो रही है?. ऐसे कई सवाल उठने लाज़िमी हैं. चूंकि आमतौर पर किसी भी मंत्रिमंडल का विस्तार महज सरकार बनने के बाद दो या तीन सप्ताह में हो जाता है. लेकिन मध्यप्रदेश की सत्ता में इस बार अजब ही हो रहा है. बताया जा रहा है कि (मामा) शिवराज सिंह चौहान मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर दिल्ली में पीएम मोदी सहित, गृहमंत्री अमित शाह और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा और भी कई नेताओं के साथ बैठक कर चुके हैं. लेकिन अभी भी इस बात का संशय बना हुआ है कि किस को कौन सा मंत्रालय दिया जाए?, इस पर तीन महीने पूर्ण होने जा रहे हैं लेकिन अभी तक सहमति नहीं बन पाई है.

ये भी पढ़ें:-आज से लागू अनलॉक-2 में बड़ा बदलाव, इन गतिविधियों पर छूट, ये सेवाएँ पड़ी ठप!

सूत्रों के अनुसार, ऐसा कहा जा रहा है कि बीजेपी के ‘महाराज’ ज्योतिरादित्य सिंधिया अपने समर्थकों को कैबिनेट में जगह दिलाने को लेकर अड़े हुए हैं. ऐसे में पुराने और नए चेहरों के साथ ताल-मेल बैठाने में ‘मामा’ के लिए समस्या खड़ी हो रही है. यही वजह है कि तीन महीनों से शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तार नहीं हो पाया है. वहीं कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल हुए सिंधिया समर्थक ‘महाराज’ की शह पर चल रहे हैं. जिस वजह से ‘मामा’ की मुश्किलें अब बढ़ती दिख रही हैं. माना जा रहा है कि ‘महाराज’ की जिद्द के आगे शिवराज मंत्रिमंडल के विस्तार को भी टाल दिया गया है.

BJP leader Jyotiraditya

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, अब बीजेपी सरकार मंत्रिमंडल में मंत्रियों की संख्या बढ़ाने पर विचार कर रही है, ताकि पुराने विधायकों के साथ-साथ नए चेहरों को भी जगह दी जा सके. वहीं कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया इस बात की जिद्द पकड़े हुए हैं कि वह अपने समर्थकों को मंत्रिमंडल में जगह दिलवाकर ही दम लेंगे.

shivraj-scindia

बता दें कि सिंधिया कांग्रेस से भाजपा में आए एंदल सिंह कंसाना, हरदीप डंग, बिसाहूलाल सिंह और रणवीर जाटव को भी मंत्री बनाने का भरोसा दे चुके हैं. यही वजह है कि अपनी मांग से सिंधिया पीछे नहीं हट रहे हैं. ऐसे में शिवराज सरकार के लिए मुश्किल यह है कि सिंधिया के साथ-साथ अपनी पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को कैसे खुश रखा जाए?.

ये भी पढ़ें:-कांग्रेस के बाद अब सिंधिया ने दिया BJP को झटका, उपचुनाव से पहले पार्टी को महंगे पड़ सकते हैं ये संकेत