क्या 25 सितंबर से देश में लगेगा 46 दिनों का संपूर्ण लॉकडाउन? सरकार ने दिया जवाब

1936
lockdown_viral_message

देश में कोरोना वायरस (Corona Virus) के मामले हर दिन बढ़ते ही जा रहे हैं. जिससे लोग काफी परेशान हैं. भले ही अब लोगों की जिंदगी फिर से पहले जैसी होने लगी है. लेकिन कोरोना का खतरा अब भी टला नहीं है. सरकार ने लॉकडाउन (Lockdown) जैसा सख्त फैसला लेकर लोगों को संक्रमण से बचाने की कोशिश की थी. लेकिन जैसे ही लॉकडाउन खुलने लगा हालत बिगड़ते चले गए. ऐसे में कई लोगों के मन में ये सवाल है कि क्या सरकार फिर से लॉकडाउन लगा देगी. क्योंकि इस बीच एक मैसेज वायरल हो रहा जिसमें दावा किया जा रहा है कि 25 सितंबर से फिर से संपूर्ण लॉकडाउन हो जाएगा. जिस पर अब सरकार का जवाब आया है.

25 सितंबर से लॉकडाउन?
पूरा देश इस समय कोरोना से लड़ रहा है. लेकिन इस बीच सोशल मीडिया पर कुछ लोग ऐसे मैसेज वायरल कर रहे हैं जिससे लोगों की परेशानी बढ़ गई है. दरअसल, राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA) की एक चिट्ठी इस दावे के साथ वायरल की जा रही है कि 25 सितंबर से देश में फिर से संपूर्ण लॉकडाउन का ऐलान किया जा सकता है. पर इस चिट्ठी पर सरकार के अंतर्गत काम करने वाली संस्था प्रेस इंफॉर्मेंशन ब्यूरो की फैक्ट चेक इकाई ने चिट्ठी के दावे को खारिज करते हुए कहा कि ये चिट्ठी पूरी तरह फर्जी है.

क्या लिखा है चिट्ठी में?
वायरल हो रही चिट्ठी में लिखा गया कि, ‘कोविड-19 के प्रसार को रोकने और देश में मृत्यु दर को कम करने के लिए, राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण, योजना आयोग के साथ भारत सरकार से, प्रधानमंत्री कार्यालय और गृह मंत्रालय, 25 सितंबर, 2020 से 46 दिनों के सख्त राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन को फिर से लागू करने के आग्रह करती है. इसके साथ देश में आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति श्रृंखला को बनाए रखने के लिए एनडीएमए मंत्रालय को एक पूर्व सूचना जारी कर रहा है ताकि उसके अनुसार योजना बनाई जा सके.’

PIB ने बताई सच्चाई
चिट्ठी वायरल होने के बाद प्रेस इंफॉर्मेशन ब्यूरो ने एक ट्वीट में बताया है कि यह चिट्ठी पूरी तरह फर्जी है. यानि देश में फिर से 46 दिनों का सख्त लॉकडाउन नहीं लगेगा. ट्वीट में चिट्ठी के दावे को पूरी तरह खारिज कर दिया गया है और बताया गया कि सरकार की तरफ से ऐसा कोई भी आदेश नहीं जारी किया गया है. ये फर्जी है.

हमारी भी आपसे अपील है कि इस तरह के फर्जी मैसेज को वायरल ना करें और इन पर भी भरोसा ना करें.

ये भी पढ़ेंः- कोरोना वैक्सीन पर ड्रैगन को मिली बड़ी सफलता, जानिए आम लोगों के लिए कब होगी उपलब्ध