DSP देवेंद्र के रिश्तेदारों का है आतंकी कनेक्शन, जांच एजेंसी को छापेमारी में मैप समेत मिली ये चीजें

0
766
dsp devendra singh

जम्मू-कश्मीर (jammu kashmir) के श्रीनगर में बीते शनिवार को ही डीएसपी देवेंद्र सिंह (dsp devendra singh) को हिरासत में लिया गया है। गिरफ्तारी के बाद से ही उनको लेकर कई बड़े खुलासे हो रहे हैं। हाल ही में सुरक्षा एजेंसियों ने उनके रिश्तेदारों के घरों पर छापा मारा है। सामने आई रिपोर्ट के अनुसार, एक बैंक ऑफिसर और एक डॉक्टर के घर की तलाशी ली गई है। साथ ही इंदिरा नगर में स्थित शिव मंदिर की भी जांच एजेंसियों ने तलाशी ली है। इस दौरान जितनी भी चीजें बरामद हुई हैं उससे सबके होश उड़ गए हैं। क्योंकि, खुफिया सूत्रों का कहना है, तलाशी में कैश-आर्मी बेस का नक्शा, साढ़े 7 लाख रुपये और अधिक मात्रा में हथियार मिले हैं। माना जा रहा है कि, DSP ने अपने रिश्तेदारों के घरों पर पैसा छिपाया हुआ है। इसलिए पूरे इलाके की निगरानी और छापेमारी में मदद के लिए ड्रोन कैमरे की मदद ली गई है।

छापेमारी में बरामद हुई चीजों से अब जांच अधिकारियों को कई तरह के शक हो गए हैं। क्योंकि, DSP को उस वक्त हिरासत में लिया गया था जब वह हिज्बुल (hizbul mujahideen) के दो आतंकियों नवीद बाबू और आसिफ अहमद को चंडीगढ़ ले जा रहे थे। ऐसे में माना जा रहा था कि, आतंकी किसी बड़े हमले की फिराक में थे। पूछताछ में आतंकियों ने बताया कि, पाक और खुफिया एजेंसी आईएसआई के हवाले से भारत में पैसा भेजते थे जिनका इस्तेमाल आतंकी करते थे। फिलहाल सुरक्षा एजेंसी उन सभी लोगों का पता लगाने में जुटी हुई है जिनका नाम देवेंद्र सिंह ने पूछताछ में लिया है। इसलिए इलाके में तलाशी अभियान अब भी जारी है।

देवेंद्र सिंह पहले भी आ चुके हैं सुर्खियों में
हालांकि, देवेंद्र सिंह पहले भी पुलिस की नजरों में आ चुके हैं इससे पहले देवेंद्र सिंह का नाम साल 2013 में संसद हमले के दोषी अफजल गुरु से जुड़ा था। पर जब मामले की जांच की गई तो देवेंद्र सिंह निर्दोष पाए गए थे। इस कारण कोई कार्रवाई नहीं की गई।

पर अब जब देवेंद्र सिंह को लेकर इतना बड़ा खुलासा हुआ है तो ये वाकई पुलिस प्रशासन पर कई तरह के सवाल खड़ा करता है। लेकिन, सबसे अच्छी बात ये है कि, पुलिस बल ने अपने सीनियर अधिकारी को हिरासत में लेने में देरी नहीं की उन्हें घटनास्थल से फौरन गिरफ्तार किया गया। पुलिस बल के इस काम की खुद पूर्व पुलिस महानिदेशक कुलदीप खोड़ा ने तारीफ की है।

जानकारी के लिए बता दें, डीएसपी पद से निलंबित हो चुके दविंदर सिंह को राष्ट्रपति पुलिस पदक से भी सम्मानित किया जा चुका है। लेकिन, उन्होंने जो कदम उठाया है वो वाकई उनकी वर्दी पर सवाल खड़ा करता है कि, आखिर कैसे एक पुलिस अधिकारी अपने देश को सिर्फ कुछ पैसों के लिए खतरे में डाल सकता है।

ये भी पढ़ेंः- DSP देवेंद्र को लेकर हुआ एक और बड़ा खुलासा, पहले भी कर चुका है आतंकियों की मदद, जानें कैसे होता था पैसे का लेन-देन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here