भारत की सख्ती : अब रेजांग ला, रेचिन ला से भी हटने लगी चीन की सेना

china 1

दिल्ली। एलएसी पर चीन की साजिशों और चालबाजियों के बाद जिस तरह से भारत ने जवाब दिया है, उसी का परिणाम है कि पैंगोंग झील के बाद अब रेजांग ला, रेचिन ला इलाके से भी चीनी सेना पीछे हट रही है। पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग लेक के करीब के इलाकों से सेनाएं हट चुकी हैं। सेना के सूत्रों ने कहा कि झील के दक्षिणी दिशा की तरफ पड़ने वाले रेजांग ला और रेचिन ला इलाकों से भी चीनी सेना के पीछे हटने की प्रक्रिया तेजी से शुरू हो गई है। ज्ञात हो कि इस इलाके की ऊंची पहाड़ियों पर भारतीय सेना रणनीतिक रूप से बढ़त बनाए हुए थी। रेजांग ला और रेचिन ला से सेनाओं के हटने का मामला भी हाल में हुए समझौता का हिस्सा रहा है। झील के अग्रिम स्थानों से सेनाओं के हटने के बाद अब दूसरे इलाकों से सेनाएं हटनी शुरू हो चुकी हैं। दोनों पक्षों द्वारा प्रक्रिया की पुष्टि के बाद वरिष्ठ सैन्य कमांडरों की दसवें दौर की वार्ता होगी। वार्वा में गश्त एवं टकराव वाले अन्य स्थानों को लेकर चर्चा की जाएगी।

यह भी पढ़ेंः-पैंगोंग का मसला हल होने के बाद अब देपसांग पर तैयारी करेगा भारत

ज्ञात हो कि मैक्सर टेक्नोलॉजी द्वारा जारी तस्वीरों में पैंगोंग झील के वह सब इलाके खाली दिख रहे हैं। जहां पहले भारत और चीन की सेनाएं आमने-सामने तैनात थीं। दोनों देशों की सेनाओं की तरफ से 10 फरवरी से पीछे हटने की प्रक्रिया शुरू हुई थी। सेनाओं के पीछे हटने का कार्य तय समझौते के तहत तेजी से हो रहा है। अगले दो-तीन दिनों में पूरा हो जाएगा। अगले सप्ताह वरिष्ठ सैन्य कमांडरों की बैठक होने की संभावना है।

दोनों सेनाओं के हटने के बीच चीन के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता और वरिष्ठ कर्नल वु कियान ने कहा कि पैंगोंग झील के दक्षिणी और उत्तरी किनारों पर अग्रिम मोर्चे पर तैनात दोनों देशों की सेनाएं व्यवस्थित तरीके से पीछे हट रही हैं। चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा कि दोनों देशों के सैनिकों की वापसी प्रक्रिया जारी है। उन्होंने कहा कि हमे उम्मीद है कि सैनिकों की पूर्ण वापसी की प्रक्रिया सुगमता पूर्वक सुनिश्चित करने के लिए दोनों देश आपसी सहमति और समझौतों को ध्यान में रखेंगे।

यह भी पढ़ेंः-शोपियांः सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, एनकाउंटर में ढेर हुए इतने आतंकी, साजिश नाकाम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *