मालदीव में भारत समर्थक पार्टी की जीत, टेंशन में आया चीन

0
51
maldiv
Loading...

मालदीव में भारत का समर्थन करने वाली पार्टी की चुनाव में जीत हो गई है। पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद की मालदिवियन डेमोक्रेटिक पार्टी की के बाद चीन टेंशन में आ गया है। पूर्व राष्ट्रपति रहे मोहम्मद की पार्टी ने अब संसदीय चुनाव भी जीत लिया है। मालदिवियन डेमोक्रेटिक पार्टी के विरोधी में खड़ी प्रोग्रेसिव पार्टी ऑफ मालदीव को केवल 7 सीटें मिली है।

भारती को समर्थन देने वाली पार्टी की जीत भारत के लिए प्रसन्नता की बात तो है ही क्योंकि चीन भारत को हमेशा घेरने के लिए पड़ोसी देशों में पैठ जमाने के लिए अपनी योजना जुट हुआ है। ऐसे में नशीद की पार्टी का संसद में अधिक सीटें जीतना भारत के लिए जरूरी था। चुनाव में अन्य निर्दलीय उम्मीदवार भी नशीद की पार्टी का समर्थन कर सकते हैं।

भारत के लिए यह अच्छी बात है कि बीते सात महीने में नशीद की पार्टी ने दूसरी बड़ी जीत हासिल कर ली है। सबसे जरूरी बात कि मालदीव से लक्षद्वीप केवल 750 किमी की दूरी पर स्थित है और इस रास्ते पर चीन की नजर है। 1200 द्वीपों वाला शहर होने के नाते मालदीव को समुद्री जहाजों के लिए महत्वपूर्ण मार्ग माना जाता है।

भारत और चीन के रिश्ते शांतिपूर्ण नहीं रहे है ऐसे में अगर चीन मालदीव में निर्माण कार्य करता है तो यह उसके लिए अच्छा नहीं होगा। भारत नहीं चाहता कि चीन मालदीव के करीब पहुंचे। साल 2017 में चीनी नौसैनिक जहाज माले पहुंच गए थे। जिससे भारत की चिंता और अधिक बढ़ गई थी। बता दें कि 2012 में नशीद पर सेना को आदेश देकर जज को बंदी बनाने का आरोप लगा। जिसके बाद उन्हें अपना पद छोड़ना पड़ा।

नशीद को फिर मार्च 2015 में 13 साल की सजा सुनाई गई। बीमार होने के चलते अनुमति लेकर इलाज के लिए ब्रिटेन चले गए। वहीं से वह श्रीलंका पहुंच गए। क्योंकि नशीद पर चुनाव लड़ने के लिए पाबंदी लगी थी तो उन्हीं की पार्टी के उपप्रमुख सोलिह राष्ट्रपति चुनाव में उतरे और जीत हासिल की। उनके राष्ट्रपति बनने के बाद से नशीद की देश वापसी का रास्ता खुल गया। राष्ट्रपति चुनाव के बाद 2018 में सुप्रीम कोर्ट ने कहा नशीद के खिलाफ सबूत नहीं होने पर बरी कर दिया। जिसके बाद उन्होंने चुनाव लड़ा और अब अप्रैल 2019 में नशीद की पार्टी को संसदीय चुनावों में जीत मिली। ये भी पढ़े- लोकसभा चुनाव से पहले सामने आया लेटेस्ट सर्वे, जानिए इस बार कौन मारेगा मैदान

हमारा यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here