Homeदेशइंडियन एयरफोर्स का विमान हादसे का शिकार...क्रैश साइट पर कोई जिंदा नहीं...

इंडियन एयरफोर्स का विमान हादसे का शिकार…क्रैश साइट पर कोई जिंदा नहीं मिला

- Advertisement -

असम के जोरहाट से उड़ान भरने वाले विमान का पता चल गया है। लंबे समय से गायब विमान की जानकारी अरूणाचल प्रदेश में टेटो इलाके के जंगलों में मिली है। जहां पर आज वायुसेना की सर्च टीम पहुंची। लेकिन यहां पहुंचकर सर्च टीम ने किसी की भी जीवित न होने की बात कही। जिसके बाद वायुसेना ने विमान में सवाल 13 यात्रियों के परिवारवालों को ये जानकारी दी। बता दें कि इस विमान में पायलट आशीष तंवर, वारंट अफसर कपिल कुमार मिश्रा, फ्लाइंग लेफ्टिनेंट मोहित गर्ग समेत 13 लोग सवार थे। इन सभी लोगों ने 3 जून को असम के जोरहाट से AN- 32 विमान में उड़ान भरी थी। ये सभी लोग अरुणाचल के मेंचुका के लिए निकले थे। लेकिन अचनाक टेटो के पास घने जंगल की वजह से विमान का कनेक्शन टूट गया। जिसके बाद से ही विमान लापता था। लेकिन इस विमान की जानकारी 11 जून को अरुणाचल प्रदेश के टेटो इलाके के पास से मिली। हालांकि विमान की आखिरी लोकेशन अरुणाचल के पश्चिम सियांग जिले में चीन की सीमा के पास मिली थी। जिसके चलते ये माना भी जा रहा था कि हो सकता है कि इस ने चीन सीमा का पार कर लिया हो।

वही आपको बता दें कि इस विमान का मलबा अरुणाचल प्रदेश की जिस पहाड़ियों पर मिला है। वो क्षेत्र कई पहाड़ियों से घिरा है बताया जा रहा है जिस जगह मलबा है उस पहाड़ी की ऊंचाई 12000 फुट ऊंची है और टेटो की पहाड़ी के 16 किमी. उत्तर पूर्व (लीपो) ये मलबा मिला है। जिसके चलते अब वायुसेना के सामने सबसे बड़ी चुनौती ये है कि इन पहाड़ियों, बादलों को चीरते हुए लापता हुए 13 जवानों को खोज निकालना है। हालांकि इन सभी लोगों को तलाश करने के लिए वायुसेना मलबे वाली जगह पर चीता-ALH हेलिकॉप्टर को भेज रही है। इनके साथ ही जमीनी दस्ते को भी मिशन पर लगाया गया है। जिसमें गरुड़ कमांडो भी शामिल हैं। इस टीम में ना सिर्फ वायुसेना, इंडियन आर्मी के लोग शामिल हैं बल्कि लोकल पर्वतारोहियों की भी मदद ली जा रही है। ताकि रास्ते का पता चल सके। ये भी पढ़ें:-9 दिन बाद मिला एएन-32 विमान का सुराग…सर्च ऑपरेशन अब-भी जारी

सौजन्य:- इंडिया टीवी

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here