भारत के इस कदम से पाक की अर्थव्यवस्था की टूटी कमर, सेना की कार्रवाई तो अभी बाकी!

0
132
images_1518087714705_narendra-modi
Loading...

पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद पाकिस्तान के खिलाफ देश  में गुस्सा पनप रहा है। सैकड़ों की तादाद में लोग सड़क पर उतरकर विरोध- प्रदर्शन कर रहे हैं।   भारत पाकिस्तान को विश्व स्तर पर दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है.  पुलवामा हमले के अगले ही दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साफ तौर पर कह  दिया था कि सीआरपीएफ के जवानों पर हमला कर पाकिस्तान ने बड़ी गलती कर दी है. वहीं, एक तरफ पाकिस्तान सबूत मांग रहा है और कार्रवाई करने की दुहाई दें रहा है. भारत आतंक परस्त पाकिस्तान मुल्क को दुनिया में अलग करने की रणनीति में जुट गया है.

भारत ने विश्व स्तर पर पाकिस्तान को चौतरफा दबाव बनाना शुरू कर दिया है.जिससे पाकिस्तान घबरा गया है, लेकिन अभी तो यह केवल शुरुआत है. भारत ने एक तरह से फैसला कर लिया है कि सैन्य कार्रवाई से पहले पाकिस्तान की ऐसी हालत कर दी जाए कि वे भारत के आगे घुटने टेकने लगे और आतंकियों पर नकेल कसने के लिए मजबूर हो जाए.

इसी कड़ी में भारत ने सबसे पहले पाकिस्तान से मोस्ट फेवरेट नेशन का दर्जा वापस ले लिया, उसके बाद इस्लामाबाद से आने वाली सभी तमाम चीजों पर 200 फीसदी आयात शुल्क लगा दिया है. पाकिस्तान से आने वाली वस्तुओं पर 200 फीसदी आयात शुल्क लगने से पाकिस्तान के निर्यात पर बुरा असर पड़ेगा. आने वाले कुछ दिनों में इसका असर पाकिस्तान की आर्थिक सेहत पर पड़ने वाली है.

पाकिस्तान की नापाक हरकत की वजह से भारतीय व्यापारियों में भी रोष व्याप्त है. पुलवामा हमले के बाद कई भारतीय व्यापरियों ने पाकिस्तान से कारोबार करने से इनकार कर दिया है. इस कड़ी में भारतीय सीमेंट व्यापारियों ने पाकिस्तान को सबसे बड़ा झटका दिया है. भारतीय व्यापारियों ने पाकिस्तान से सीमेंट के आयात पर रोक दिया है. उन्होंने पाकिस्तान से आए सीमेंट के 600-800 कंटेनरों को वापस लौटा दिए.ये भी पढ़ें: पाकिस्तान पर बरसे साक्षी महाराज, कहा ‘मिलेगा करारा जवाब दे दिए ऐसे संकेत

हमारा यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here