चीन से दो कदम आगे सोचती है भारतीय सेना, 1 महीने पहले ही बन चुका था प्लान, अब खौफ में ड्रैगन

6965

भारत अब हर वो खाका खींच लेना चाहता है, जिससे कि ड्रैगन को परास्त किया जा सके, जिससे की ड्रैगन को हर मौके पर यह एहसास दिलाया जा सके कि भारत से पंगा लेना चीन के लिए भारी पड़ सकता है। भारत का यह कदम उसकी धाकड़ कूटनीतिक का हिस्सा रहा है। अब इसी बीच इंडियन एक्सप्रेस अखबार ने अपनी एक रिपोर्ट में इस बात का खुलासा किया है कि भारतीय सेना ने चीन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए बहुत पहले ही प्लान बना लिया था। इतना ही नहीं, आपको यह जानकर हैरत होगी कि भारतीय सेना को इस बात का अंदेशा एक महीने पहले ही हो चुका था कि चीनी सेना भारत के खिलाफ कोई हिंसक कदम उठा सकती है।

अखबार में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय सेना को दिल्ली हाईकमान से पहले ही इजाजत मिल गई थी। जिसकी बानगी हम गत 29,30, 31 अगस्त और 7 सितंबर को हुए चीन सेना के अंतिक्रमण की कोशिश के रूप में देख चुके हैं। जिसे भारतीय सेना ने अपने शोर्य के दम पर नाकाम कर दिया था। भारतीय सेना ने 4 किमी अंदर घुसकर 500 चीनी सैनिकों को खदेड़ दिया था। अब यहां के कई डोमिनेटिंग हाइट्स पर भारत ने कब्जा कर लिया है। इतना ही नहीं, भारतीय सेना ब्लैक टॉप पर भी कब्जा जमा लिया था, जिसके बाद से चीन की बौखलाहट भी देखने को मिली है।

माना जा रहा है कि एक माह पूर्व ही इस बात की जानकारी भारतीय सेना को मिल गई थी कि भारतीय सरजमीं पर चीनी सेना अतिक्रमण कर सकती है। इस तथ्य भारतीय सेना को चीनी को मुंहतोड़ जवाब देने में काफी सहायक साबित हुई। लेकिन अभी हर कोई यह जानकर हैरान हो रहा है कि चीनी ऐसा कदम उठाने जा रहे हैं। मालूम हो कि इससे पहले चीनी सेना एलएसी से पीछे हटने को लेकर संजीदा नहीं थी,  जिसके बाद 30 जून को कमांडर स्तर की वार्ता भी निष्फल ही रही। इसके बाद गलवान घाटी में पेट्रोलिंग प्वाइंट 14 पर सैनिकों की वापसी भी हुई,  फिर सैनिकों की वापसी के आसार जताए जाने लगे। इसके बाद 14 जुलाई को चौथे दौर की वार्ता में ये साफ हो गया, कि चीन गोगरा पोस्ट और हॉट स्प्रिंग इलाकों से पूरी तरह से अपने सैनिकों को वापस बुलाने के लिये तैयार नहीं था, इसके अलावा चीन सेना पैंगोंग त्सो के उत्तरी तट से भी पीछे हटने को तैयार नहीं थी। लेकिन भारतीय सेना ने हर  मौके पर चीन सैनिकों को परास्त करने का काम किया है, जिसके चलते कई मौकों पर चीन बौखलाहट अपने शबाब पर देखने को मिली है। ये भी पढ़े :भारत और जापान के बीच हुई ऐतिहासिक डील, चिढ़ गया चीन!