अंतरिक्ष में सेना तैयार कर रहा है हिन्दुस्तान, मिशन शक्ति के बाद मोदी का एक और मिशन

0
66
modi mission
Loading...

मिशन शक्ति के बाद अब पीएम मोदी का एक और मिशन की तैयारियों में जुट गए है। दरअसल डीआरडीओ और इसरो किसी भी संभावित खतरे से निपटने की तैयारियों में जुट गए हैं। इस मिशन में डाइरेक्ट एनर्जी वेपन और को-ऑर्बिटल किलर्स को विकसित करने अलावा अपने सैटेलाइट्स को इलेक्ट्रानिक और फिजिकल हमले से बचाने के तरीके शामिल हैं।

रक्षा अनुसंधान जी सतीश रेड्डी ने बताया कि “हम डाइरेक्ट एनर्जी वेपन, लेजर, इलेक्ट्रोमैग्नेटिक पल्स के साथ को ऑर्बिटल किलर्स की तकनीकी को और उन्नत बनाने की दिशा में काम कर रहे हैं”। उन्होंने कहा कि “हम पूरी जानकारी नहीं दे सकते लेकिन हम इस दिशा में आगे बढ़ रहे हैं”।

क्या है ए-सैट मिसाइल 
डीआरडीओ प्रमुख जी सतीश रेड्डी ने कहा कि तीन स्टेज वाली इंटरसेप्टर मिसाइल 1000 किलोमीटर तक मार करने में सक्षम है। इसके साथ ही यह मिसाइल एक बार में कई लक्ष्यों पर निशाना साध सकती है।

गौरतलब है कि भारत ने पृथ्वी की निचली कक्षा में 300 किलोमीटर की रेंज पर मौजूद सेटेलाइट को मार गिराया था। इसकी जानकारी खुद पीएम मोदी ने दी थी। इतना ही नहीं, इस दौरान उन्होंने देश को संबोधितन भी किया था। वहीं, इसी बीच, राष्ट्र के नाम उनके संबोधन को लेकर विपक्षी दलों ने निशाना भी साधा था। ये भी पढ़े- मोदी के मिशन शक्ति पर नासा ने उठाए सवाल, मलबे से अंतरिक्ष में भयंकर खतरा

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here